कन्या राशि वालों का ये कड़वा सच जानकर, आपके भी उड़ जायेंगे होश

- in धर्म

हमारे वेदों में कुल १२ रशिया है जिसमे से कन्या राशी का स्थान 6 वे नंबर पर आता है राशि चक्र का छठवां चिह्न कन्या हैं जो की दक्षिण दिशा की द्योतक है। इस राशि का चिह्न हाथ में फ़ूल की डाली लिये कन्या है। इस राशि का स्वामी बुध है, इस राशि के तीन द्रेष्काणों के स्वामी बुध,शनि और शुक्र हैं। आज हम आपको कन्या राशि के जातकों की कुछ विशेसताएँ बताने वाले हैं जिन्हें जानकर यदि आपकी भी कन्या राशि है ये आपका कोई जानने वाला जिसकी कन्या राशि हो उसके बारे में बहुत कुछ जान सकते हैं |

कन्या राशि वालों का ये कड़वा सच जानकर, आपके भी उड़ जायेंगे होशआपको बता दे की कन्या एक पृथ्वी राशि है, जो रूढ़िवादी और संगठित चीजों को पसंद करती है, और जो उन पर निर्भर है। कन्या राशि के जातक बहुत संगठित जीवन जीते हैं, और अगर वे बहुत उलझे हुए भी हैं, उनके लक्ष्य और सपने उनके मन में सख्ती से परिभाषित बिन्दुओं के रूप में मौजूद होते हैं।क्योंकि बुध कन्या का स्वामी ग्रह है, इसलिए इस राशि के जातक में भाषण और लेखन के साथ ही संवाद के अन्य सभी रूपों की एक पूर्ण विकसित भावना होती है।कन्या राशि के जातक ईमानदार, कर्तव्यपरायण और आदर्शवादी होते हैं | सूक्ष्म, स्वच्छ और उचित, प्रतिस्पर्धी, जीवन वृत्ति इतना मजबूत होती है कि यह उनके जीवन और इच्छा पर हावी होती है |

इस राशी के लोग मेहनती और व्यवस्थित होते है, कन्या राशि के जातक प्रत्येक कार्य की निगरानी खुद रखना चाहते हैं। ये कुशल और व्यावहारिक व्यक्ति अपने कार्यस्थल के बहुत अच्छे कर्मचारी साबित होते हैं। क्योंकि इनकी नजर से कुछ भी चुकता नहीं हैं। इनके आस पास रहने से कर्तव्यपरायणता अपने आप वातावरण में फैल जाती हैं।और आपका सारा काम अच्छी तरह से सफल हो जाता है|
संतुलित और निष्पक्ष कन्या राशि के लोग अनावश्यक रुप से भावनाओं में नहीं बहते हैं चाहे कैसी भी स्थिति सामने आए ये अपने आप को शांत रखने में कामयाब रहते हैं।लेकिन यदि सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद काम में सफलता नहीं मिलती हैं तो ये टूट जाते हैं।

अपने कार्य में अति सावधान कन्या राशि के जातक शांत, सुव्यवस्थित और अपने आप में रहने वाले होते हैं। हालांकि, ये शायद ही कभी चुनौतियों को स्वीकारने से दूर भागते हैं बल्कि कड़ी मेहनत और शांत संकल्प के साथ अपनी क्षमताएं साबित करके दिखाते हैं। और ये अपनी पूर्णता और छोटी से छोटी चीज का ध्यान रखकर सफलता हासिल करते हैं।

द्रुतगामी और ऊर्जा के स्त्रोत शारीरिक और मानसिक दोनो रूप से, कन्या जातक तेज दिमाग वाले होते हैं, शायद यही वजह है कि ये बहुत सरे काम कर पाते हैं। ये अच्छे वार्ताकार होते हैं और अधिकतम लाभ लेने के लिए अपनी मानसिक तीक्ष्णता का उपयोग करते हैं। कई बार इन्हे संदेह में पड़ने का भी खतरा हो सकता हैं। ये मेहनती और सावधानी से विश्लेषण करने वाले होते हैं।

ये विश्वास करने वाले होते हैं और विनम्र और सहज भी होते हैं। ये भौतिक संपत्ति का भी आनंद लेते हैं। इनकी सबसे बड़ी ताकत इनकी व्यावहारिकता, तेज दिमाग और सेवा करने की इच्छा होती हैं। ये उत्कृष्ट संवेदनशील और विश्लेषणात्मक होते हैं। ये घबराहट की वजह से अक्सर विषाद का शिकार हो जाते हैं। इनमें से कईयों को मनोवैज्ञानिक समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं।

कन्या राशि के जातक अपना हर काम ठीक तरह से करते हैं और वे यह चाहते हैं कि जो भी उसके प्रगति पथ पर आयें वे सब इसका पालन करें। कन्या का स्वभाव शर्मीला है। उन्हें क्या नापसंद है इसपर ध्यान केंद्रित रखते हैं। वे जीवन के कठिन दौर का सामना करने को तैयार हैं। वे भावनात्मक मूल्यों से नहीं जुड़ते हैं। कन्या अपने जीवनसाथी के प्रति ईमानदार और समर्पित होते हैं।

You may also like

तुला और मीन राशिवालों की बदलने वाली है किस्मत, जीवन में इन चीजों का होगा आगमन

हमारी कुंडली में ग्रह-नक्षत्र हर वक्त अपनी चाल