बसपा मुखिया मायावती ने गठबंधन को बताया झूठ, कहा-झूठी खबर है

बसपा और सपा के बीच दोस्ती की खबर पर मायावती ने विराम लगा दिया है. न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक मायावती ने कहा, ‘मैं स्पष्ट कर देना चाहती हूं कि बीएसपी का किसी भी राजनीतिक दल से कोई गठबंधन नहीं हुआ है. 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच गठबंधन की बात झूठ और आधारहीन है.’ बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर हमने कोई प्रत्याशी नहीं उतारे हैं. हमारी पार्टी के कार्यकर्ता बीजेपी प्रत्याशी को हराने की कोशिश करेंगे. 

मायावती ने ये भी कहा कि यूपी में हाल ही में राज्यसभा और विधान परिषद में होने वाले चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए सपा और बसपा के द्वारा एक दूसरे को वोट ट्रांसफर कर दिया जाता है तो ये कोई चुनावी गठबंधन नहीं है. इससे पहले रविवार को खबर आई थी कि पिछले 25 साल से एक-दूसरे को फूटी आंख न सुहाने वाली पार्टियां समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच दोस्ती हो गई है. खबर थी कि यह दोस्ती गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव को लेकर हुई है. गोरखपुर में रविवार को हुई बीएसपी की बैठक में सपा उम्मीदवार को समर्थन देने का फैसला लिया गया था. इसके अलावा कहा गया था कि राज्यसभा चुनाव में बीएसपी के विधायक सपा प्रत्याशी के पक्ष में वोट करेंगे.

सपा-बीएसपी ने हाथ उठाकर दोस्ती का किया ऐलान
बीएसपी और सपा नेता गोरखपुर में मंच पर एकसाथ हाथ उठाकर एक दूसरे का साथ देते हुए नजर आए. दोनों ने एक दूसरे की उम्मीद का दामन थामकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रभाव को दबाने का पूरा प्रयास कर रहे हैं. देखना यह है कि इस प्रयास में दोनों का साथ कितना काम आता है. बहुजन समाजवादी पार्टी (बीएसपी) की जिला स्तरीय बैठक के दौरान घनश्याम चंद्र खरवार ने मंच से घोषणा की कि वह समाजवादी पार्टी को समर्थन दे रहे हैं. वहीं मंच से घनश्याम चंद खरवार ने कहा की बीएसपी सुप्रीमो मायावती के आदेश के बाद हम लोगों ने सपा को समर्थन दिया है और गोरखपुर मे निषाद पार्टी के प्रत्याशी को लड़ाया जा रहा है. इस बार हम लोग बहुत ज्यादा मतों से विजयी होंगे.

बड़ी खबर: भारत, रूस से S-400 मिसाइल खरीदने की तैयारी में, हवा में ही उड़ा देगी दुश्मनों के चीथड़े

बीएसपी के मुख्य जोनल इंचार्ज घनश्याम चंद खरवार ने कहा कि हम इस दोस्ती को बनाए रखने की पूरी कोशिश करेंगे. वहीं गोरखपुर से सपा प्रत्याशी प्रवीण निषाद ने कहा कि बीजेपी से निपटने के लिए हमारी ये दोस्ती रंग लाएगी. बीएसपी नेता आफताब आलम ने कहा कि राज्य की जनता मौजूदा सरकार से त्रस्त है, जनता की मांग पर उपचुनाव में सपा को समर्थन देने का फैसला लिया गया है.

 

You may also like

राफेल डील पर राहुल के साथ ‘शत्रु’, लालू ने पूछा- सच बताने में डर काहे का?

‘राफेल सौदे’ को लेकर एक फ्रांसीसी प्रकाशक ने