मध्यप्रदेश: मुंगावली व कोलारस दोनों जगह कांग्रेस की बढ़त बरकरार

- in राष्ट्रीय

मध्यप्रदेश की मुंगावली और कोलारस दोनों विधानसभा सीटों पर कांग्रेस आगे चल रही है। मुंगावली में 13वें राउंड के बाद कांग्रेस के बृजेंद्र सिंह यादव आगे हैं वहीं कोलारस में 11वें राउंड की मतगणना में महेंद्र सिंह यादव भी आगे हैं। बढ़त को देखते हुए दोनों ही जगह कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जश्न मनाना शुरु कर दिया है।

मुंगावली में मतगणना का दौर आगे बढ़ने के साथ 16वें राउंड की गणना के बाद कांग्रेस 3896 वोटों से आगे चल रही है। पहले चरण की गिनती में कांग्रेस उम्मीदवार बृजेंद्र सिंह यादव पीछे थे लेकिन उसके बाद जैसे ही मतगणना आगे बढ़ी बृजेंद्र सिंह यादव की बढ़त बरकरार रही। बृजेंद्र सिंह को 13वें राउंड में कांग्रेस को 3494 वोट मिले जबकि भाजपा की बाई साहब यादव को 4554 वोट मिले। 13 दौर की मतगणना के बाद कांग्रेस की बढ़त बरकरार है।

अफसर से मारपीट मामला, मनीष सिसोदिया का बयान, इस धर्मयुद्ध का अंजाम तो वक़्त तय करेगा

डाक पत्रों की गिनती में 23 में से 21 मतपत्र अमान्य किए गए हैं। यहां मुख्य मुकाबला कांग्रेस के बृजेंद्र सिंह यादव और भाजपा की प्रत्याशी बाईसाहब यादव के बीच है। यहां 13 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें से 8 निर्दलीय हैं।

कोलारस में 13वें चरण की मतगणना के बाद कांग्रेस के महेंद्र सिंह यादव 4001 वोटों से आगे हैं। इस दौर में भाजपा को 3397 और कांग्रेस को 3667 वोट मिले। इस पहले कुल 14 डाक मतमत्रों में से कांग्रेस को 8 और भाजपा को 5 मिले, जबकि एक डाक मतपत्र निरस्त कर दिया है।

मतगणना टेबल पर माइक्रो आब्जर्वर, गणना पर्यवेक्षक, गणना सहायक और दो अन्य कर्मचारी तैनात हैं। पूरी मतगणना की वीडियोग्राफी भी की जा रही है। मतगणना स्थल पर सिर्फ चुनाव आयोग के पर्यवेक्षक को मोबाइल ले जाने की इजाजत है। सुरक्षा की त्रिस्तरीय व्यवस्था बनाई गई है। रेंडम आधार पर दोनों विधानसभा क्षेत्र में उपयोग लाई गई वीवीपैट में से एक-एक चुनाव स्लिप और ईवीएम में डाले गए मतों का मिलान किया जा रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रचार की कमान संभालने की वजह से चुनाव दिलचस्प हो गया। उपचुनाव के नतीजे प्रदेश की सियासत की दिशा भी तय करेंगे।

You may also like

बलात्कार मामलों में अब होगी त्वरित कार्रवाई, पुलिस को मिलेगी यह विशेष किट

देश में पुलिस थानों को बलात्कार के मामलों की जांच