भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को 102 डिग्री बुखार, फिर भी किया चुनाव प्रचार

- in राजनीति

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को बीमार होने के कारण बीच में ही अपना कर्नाटक विधानसभा दौरा रद करना पड़ा। तेज बुखार की वजह से वे बुधवार को वापस दिल्ली लौट अाए। बता दें कि 102 डिग्री तापमान होने के बाद भी शाह ने तटीय जिलों में अपनी यात्रा जारी रखी थी। सोमवार की रात को हवाई अड्डे पर उतरने के तुरंत बाद शाह को पार्टी कार्यकर्ताओं ने सम्मानित किया लेकिन स्वास्थ्य खराब होने का हवाला देते हुए उन्होंने भाषण देने से मना किया। शाह का इलाज करने वाले डॉक्टरों में शामिल एक ने बताया कि जब वे मंगलुरु के लिए विमान में बैठे थे तो उन्हें तेज बुखार था।

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को 102 डिग्री बुखार, फिर भी किया चुनाव प्रचार

अमित शाह सोमवार से दक्षिण व उत्तर कन्नड के दौरे पर थे। भाजपा अध्यक्ष को अपनी यात्रा को दौरान उत्तर कन्नड के कुमता व गोकर्णा जिले में जनसभाएं करनी थीं। कुमता में भाजपा सांसद के. शोभा ने लोगों को शाह की बीमारी के बारे में बताया और सभा को रद्द कर दिया। बता दें कि इससे पहले सुबह के सत्र में अमित शाह ने 800 साल पुराने उडुपी के कृष्णा मठ का दौरा किया था। मंगलवार रात में वह उडुपी पजेश्वर मठ गए थे। उत्तर कन्नड के हॉनावारा में शाह ने भाजपा कार्यकर्ता परेश के घर का दौरा किया। हिंसा भड़कने के बाद वह रहस्यमय तरीके से लापता हो गया था। बाद में उसकी लाश झील से मिली। गौरतलब है कि मौत की वजह से कई हिन्दूवादी संगठनों ने जमकर विरोध किया प्रदर्शन कियाथा जिसेस हिंसा भड़क गई थी।

मोदी की नई चाल, तमिलनाडु में रजनीकांत को साथ लाना चाहती है भाजपा

 

 

भाजपा के शक्ति केंद्रों के प्रभारियों की बैठक में शाह ने कहा था कि मजबूत संगठन गारंटी होता है चुनाव जीतने की। संगठन समर्थ न हो तो सरकारें आती हैं और चली जाती हैं, लेकिन कार्यकर्ता ऊंचे मनोबल के हों तो गुजरात और मध्य प्रदेश की तरह से हमेशा जीत आपका वरण करती है। उनका कहना था कि पार्टी ने संगठन के दम पर ही मणिपुर व उत्तर प्रदेश में जीत का परचम लहराया था। शाह ने कहा था कि भाजपा केवल चुनाव जीतने में यकीन नहीं रखती बल्कि उसके बाद संगठन को मजबूती देने की मंशा भी रखती है। उन्होंने कहा था कि कर्नाटक में सिद्दरमैया सरकार के भ्रष्ट आचरण की वजह से लोगों में रोष है। वर्कर्स इसे जीत में तब्दील करें।

You may also like

राहुल गाँधी के बचाव में आये ये नेता, बोले- पहले अपना ज्ञान बढ़ाये अमित शाह

नई दिल्‍ली। भारत में आगामी चुनाव बेहद काफी नजदीक