Home > बड़ी खबर > ‘मोदी चौक’ हत्याकांड मामले को लेकर बिहार बीजेपी में सवाल जवाब

‘मोदी चौक’ हत्याकांड मामले को लेकर बिहार बीजेपी में सवाल जवाब

बिहार के दरभंगा में बीजेपी नेता के पिता की हत्या में सियासी मोड़ आ गया है। बिहार बीजेपी के नेताओं में ही मामले को लेकर मनभेद सामने आ रहे हैं। बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने हत्या के पीछे जमीन विवाद को जिम्मेदार ठहराया वहीं केंद्रीय मंत्री गिरीराज सिंह और बिहार बीजेपी के अध्यक्ष नित्यानंद राय ने इसके पीछे कुछ और ही वजह बताई है। गिरीराज और नित्यानंद के मुताबिक पार्टी की रंजिश की वजह से इस हत्या को अंजाम दिया गया। 

 

'मोदी चौक' हत्याकांड मामले को लेकर बिहार बीजेपी में सवाल जवाब दोनों ही बीजेपी नेताओं ने सुशील मोदी और बिहार पुलिस के दावों को खारिज किया है। उन्होंने कहा कि एक चौक का नाम मोदी चौक रखा गया था, यह विवाद बढ़ते हुए हत्या तक पहुंच गया। उन्होंने कहा कि एसपी और डीएसपी मामले को दबाने की कोशिश कर रहे हैं। हम इन पुलिस अधिकारियों की शिकायत सरकार से करेंगे। 

मृतक के परिवार से मिलने दरभंगा पहुंचे गिरीराज सिंह ने कहा कि मैं जान रहा था कि चुनाव में जहर बोया जा रहा है कि एक खास समुदाय, दल की ओर से, आज वही चुनाव परिणाम के बाद, तेजस्वी यादव और उनके परिवार के लोगों ने बयान दिया कि मोदी चौक जबसे बनवाया है तब से उनके ऊपर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है। 
 

बीजेपी के भीतर शुरू हुई बयानबाजी पर तेजस्वी यादव ने चुटकी ली है। उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री के साथ-साथ गृहमंत्री भी हैं। वो बताएं कि वह गिरीराज सिंह और नित्यानंद राय के पुलिस द्वारा सरकार को गुमराह करने को सही ठहराते हैं। एक तरफ सुशील मोदी सरकार का बचाव करते हैं और दूसरी तरफ बीजेपी के केंद्रीय मंत्री और अध्यक्ष सरकार पर हमला करते हैं। उन्होंने लिखा कि बीजेपी के कई नेता नीतीश सरकार के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं लेकिन बीजेपी-नीतीश के रिश्तों को लेकर खबरें क्यों नहीं आ रही हैं। 

तेजस्वी ने आरोप लगाया कि अररिया, दरभंगा के बाद अब भागलपुर में तनाव, नीतीश कुमार इतने असहाय, बेबस और लाचार क्यों?

 इससे पहले दरभंगा पुलिस ने कहा था कि मामला मोदी चौक से संबंधित नहीं है, पुलिस के मुताबिक मृतक के बेटे और बीजेपी नेता कमलदेव और तेज नारायण यादव का आरोपी कमलेश यादव के साथ पहले से ही जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। जिसकी वजह से हत्या हुई है। आपको बता दें मृतक रामचंद्र के बेटे तेज नारायण यादव पंचायत स्तर के नेता हैं। बीते दिनों कुछ लोगों ने रामचंद्र की तलवार से हत्या कर दी थी। 
Loading...

Check Also

1984 सिख विरोधी दंगाः अदालत ने 34 साल बाद दोषी यशपाल को सजा-ए-मौत और नरेश को आजीवन कारावास

1984 सिख विरोधी दंगाः अदालत ने 34 साल बाद दोषी यशपाल को सजा-ए-मौत और नरेश को आजीवन कारावास

1984 में सिख विरोधी दंगों से जुड़े एक मामले में अदालत ने 34 साल बाद …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com