बड़ी खबर: UN में पाक को भारत ने लगाई जोरदार फटकार- आतंकवाद का सबसे बड़ा स्रोत है पाकिस्तान

भारत ने संयुक्त राष्ट्र में एक बार फिर पाकिस्तान को फटकारते हुए कहा है कि वह दुनिया में आतंकवाद का सबसे बड़ा स्रोत है। भारत ने दूसरी बार अपने जवाब के अधिकार का प्रयोग करते हुए पाक की टिप्पणी पर कहा, यह अफसोसजनक है कि पाक ने परिषद के मौलिक समय का प्रयोग एक बार फिर भारत के खिलाफ दावों और आरोपों में बर्बाद कर दिया। 

बड़ी खबर: UN में पाक को भारत ने लगाई जोरदार फटकार- आतंकवाद का सबसे बड़ा स्रोत है पाकिस्तानभारत ने कहा कि मानवाधिकार को लेकर पाक का रिकॉर्ड निंदनीय है और आतंक के प्रमुख स्रोत के रूप में उसके इतिहास से कोई अनजान नहीं है। भारत ने इस दौरान पाक क्रूरता का जिक्र करते हुए बलूचिस्तान, खैबर पख्तूनख्वा और सिंध में लोगों के हर दिन अगवा होने और मारे जाने का मुद्दा भी उठाया। उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान के भीतर अब तक सेना की कार्रवाई में दस लाख से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं। यहां खासतौर पर अल्पसंख्यक महिलाओं, बच्चियों का अपहरण कर उनकी शादियां कराई जाती हैं। इन अत्याचारों में ईशनिंदा कानून का बेजा इस्तेमाल भी शामिल है।

भारत ने कहा कि किस तरह से पाकिस्तान सीमा पार आतंकवाद को समर्थन दे रहा है और जम्मू-कश्मीर राज्य में अपने नापाक इरादों को अंजाम दे रहा है जबकि यह भारत का अभिन्न हिस्सा है। भारत ने पाक पर मानवाधिकारों की आड़ लेकर आतंकवाद की नीति पर चलने का आरोप लगाया। संयुक्त राष्ट्र में अपने जवाब के अधिकार का प्रयोग करते हुए भारत ने कहा कि हम पाक सरकार से अपेक्षा रखते हैं कि वह 2008 के मुंबई हमले और 2016 के पठानकोट-उड़ी हमलों में शामिल आतंकवादियों के सजा दिलवाए।

पाक आतंकवाद से पीड़ित होने का सिर्फ दिखावा करता है

भारत ने पाक जैसे देशों द्वारा अलकायदा सरगना ओसामा-बिन-लादेन को सुरक्षा देने और तालिबानी नेता मुल्ला उमर को पनाह देने पर चिंता जताई। भारत ने दो-टूक होकर कहा कि जो देश इतने खतरनाक आतंकवादियों को पनाह दे रखा है वह खुद को आतंकवाद से पीड़ित बताने का सिर्फ दुनिया के सामने दिखावा कर रहा है। भारत ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 1267 का उल्लंघन करते हुए पाक के समर्थन से वहां हाफिज सईद जैसे आतंकी आजाद घूम रहे हैं। 

You may also like

आधार को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश है सरकार, कांग्रेस पर साधा निशाना…

आधार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सरकार