दिल्ली विधानसभा सत्र: दूसरे दिन भी हंगामे के आसार, ये बड़ा मुद्दा उठाएगी BJP

नई दिल्ली। सोमवार से शुरू हुआ दिल्ली विधानसभा सत्र का पहला दिन हंगामेदार रहा। आज सत्र का दूसरा दिन है और इसके भी हंगामेदार रहने के आसार हैं। दूसरे दिन की कार्यवाही को लेकर विपक्ष ने रणनीति तैयार कर ली है। माना जा रहा है कि धुसपैठियों को मुद्दे पर विपक्ष दिल्ली सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा।दिल्ली विधानसभा सत्र: दूसरे दिन भी हंगामे के आसार, ये बड़ा मुद्दा उठाएगी BJP

चर्चा कराने की मांग

बता दें कि दिल्ली में बांग्लादेशी घुसपैठिए के मुद्दे पर चर्चा कराने की मांग पर अड़े नेता विपक्ष विजेंद्र गुप्ता को विधानसभा सत्र के पहले ही दिन विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने मार्शलों के जरिये दिनभर के लिए सदन से बाहर करवा दिया था। गुप्ता इस मुद्दे पर सरकार से वक्तव्य देने की मांग कर रहे थे जबकि विधानसभा अध्यक्ष का कहना था कि वे इस बारे में विचार करेंगे। नेता विपक्ष को सदन से बाहर कराए जाने पर भाजपा के विधायक ओम प्रकाश शर्मा तथा जगदीश प्रधान ने भी रोष प्रकट किया।

बिल लेकर आए सरकार 

सदन की कार्यवाही शुरू होने से पूर्व विजेंद्र गुप्ता ने संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि सरकार अविलम्ब घुसपैठियों की पहचान, उनकी रोकथाम और निष्कासन पर बिल लेकर आए। दिल्ली में अपराध की घटनाओं की रोकथाम के लिए घुसपैठियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। इसके लिए आवश्यक है कि मतदाता पहचान पत्र और राशन कार्डों की गहन जांच कर घुसपैठियों को चिह्नत किया जाए। इनके नाम मतदाता सूची से हटाए जाएं और राशन कार्ड रद किए जाएं।

घुसपैठ आंतरिक सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा

विपक्ष के नेता ने कहा कि बड़े पैमाने पर घुसपैठ आंतरिक सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा पैदा करने के साथ-साथ वर्तमान राष्ट्रीय संसाधनों पर भी बोझ हैं। ये क्षेत्र की सांस्कृतिक निरंतरता में स्थायी व्यवधान भी पैदा करते हैं। उन्होंने आह्वान किया कि इस मुद्दे पर राजनीति करने के बजाय सभी राजनैतिक दलों को एक साथ मिलकर यह सुनिश्चित करना होगा कि राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर व्यवस्था न केवल असम में बल्कि पूरे भारत में शांतिपूर्ण तरह से लागू की जाए।

पहले दिन हुआ जोरदार हंगामा 

गौरतलब है कि विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन गहमागहमी वाला रहा। भाजपा विधायक ओपी शर्मा के एक शब्द पर ‘आप’ विधायकों की आपत्ति ने माहौल ही गरमा दिया। दरअसल, विशेष उल्लेख नियम 280 के तहत भाजपा विधायक ओमप्रकाश शर्मा अपने विधानसभा क्षेत्र में पेयजल और सीवरेज की समस्या पर बात रख रहे थे। उन्होंने शिकायत करते हुए कहा कि आधिकारिक स्तर पर लापरवाही के कारण ही यह समस्या उत्पन्न हो रही है। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि अगर अधिकारी गलत होंगे तो सत्तापक्ष के साथ विपक्ष भी उन्हें नहीं बख्शेगा। भाजपा भी उन्हें ठोकेगी।

आतंकवादी की तरह क्यों बात कर रहे हो

इस पर ‘आप’ विधायक अमानतुल्लाह खान चुटकी लेते हुए बोले, आप ठोकोगे, कैसे ठोकोगे? ठोकने के लिए दम चाहिए दम। तब शर्मा भी ताव में आ गए और बोले, आतंकवादी की तरह क्यों बात कर रहे हो, आदमी की तरह बात करो। इस दौरान अमानतुल्लाह अपनी सीट से उठते हुए उनकी ओर बढ़ने लगे तो शर्मा ने कहा, आजा देखें तेरी गुंडागर्दी। फिर क्या था, दोनों के बीच बहस शुरू हो गई और हाथापाई की नौबत आ गई।

माफी की मांग 

‘आप’ विधायकों ने आतंकवादी शब्द पर आपत्ति जताते हुए विधानसभाध्यक्ष रामनिवास गोयल से मांग करते हुए कहा कि शर्मा से माफी मांगने को कहा जाए। लेकिन, शर्मा सदन छोड़कर चले गए जबकि ‘आप’ विधायक विधानसभा अध्यक्ष की कुर्सी के आगे जाकर हंगामा करने लगे। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी भाजपा को मुस्लिम विरोधी करार देते हए इस प्रकरण पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की। 

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल को नियुक्त किया कोषाध्यक्ष, वोरा ने संभाला महासचिव का पदभार

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी संगठन में