इंजीनियर से किसान बने इस शख्स ने किया ये बड़ा कारनामा

- in ज़रा-हटके

देश में हर कोई अच्छी पढ़ाई करके सरकारी नौकरी, एमबीए एक्जीक्यूटिव, डॉक्टर, इंजीनियर बनना चाहता है। मगर, कोई भी पढ़ाई करके खेती-किसानी के क्षेत्र में आगे नहीं आना चाहता है। हालांकि, अब युवाओं की सोच में कुछ बदलाव आया है और थोड़े ही सही, लेकिन ऐसे युवा किसानी में लौट रहे हैं, जो लाखों के पैकेज वाली अच्छी नौकरी करते थे।

इसका नतीजा भी दिख रहा है। ऐसे किसानों ने न सिर्फ अपनी फसल कम लागत में अच्छी करनी शुरू की है, बल्कि आस-पास के गरीब किसानों को भी वे इसके बारे में सिखा रहे हैं। एक ऐसा ही उदाहरण पेश किया है रवि मंगलेश्वर ने। मस्कट में 10 साल तक इंजीनियरिंग की नौकरी करने के बाद वे 2001 में वापस अपने गांव आ गए और यहां पर आकर किसानी करने लगे।

रवि मंगलेश्वर एक ही पेड़ पर 51 किस्म के आम का उत्पादन करते हैं। महाराष्ट्र में विदर्भ क्षेत्र के रहने वाले रवि द्वारा खोजी गई नई प्रजाति इस समय पूरे देश में चर्चा का विषय बनी हुई है। रवि ने अपने रिसर्च से ये संभव कर दिखाया है और इस समय ढ़ाई एकड़ में 1,000 आम के पेड़ लगा रखे हैं।

पति का पैर दबाते दबाते पत्‍नी की इस गन्दी हरकत ने सोशल मीडिया पर मचाया तहलका, देखें तस्वीरें

किसानी करने के दौरान ही उनके अंदर कुछ अलग करने का जज्बा जागा और उन्होंने अपने पूर्वजों से मिली 5 एकड़ जमीन पर खेती करना शुरू किया। इसी दौरान उन्होंने खेती के बारे में अध्ययन करने के लिए 500 से अधिक जगहों का दौरा किया। रवि मंगलेश्वर के पिता खेती करते थे और समाज के लिए काम करते थे और वह भी इसी क्षेत्र में काम करने के लिए देश में लौट आए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अगर आप भी मान लेगे ये एक शर्त, तो फ्री में शारीरिक संबंध बनाएगी वैश्याएँ

दुनियाभर में कम से कम 15 देश ऐसे