Omg: इस वजह से शादी के अगले दिन ही लड़कियां शुरू कर देती हैं वेश्यावृत्ति, वजह हैरान कर देने वाली

- in ज़रा-हटके

एक तरफ भारत जहां आधुनिकता की ओर बढ़ रहा है। वहीं दूसरी तरफ भारतीय समाज का एक चेहरा ऐसा भी है जिसे देखकर कोई भी हैरान हो सकता है। और बात यदि महिलाओं की हो रही हो तो फिर हालात बेहद दयनीय हो जाते हैं। हालांकि ये सही है कि हमारे देश में ही महिलाओं ने कई बड़े मुकाम भी हासिल किए हैं। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और लोकसभा अध्यक्ष जैसे पदों की गरिमा भी महिलाओं ने बढ़ाई हैं।

बावजूद इसके आम महिलाओं की स्थिति चिंताजनक ही बनी हुई है। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि आज के जमाने में भी एक ऐसा समुदाय है, जहां बेटियों का पालन-पोषण कर उन्हें बेचा जाता है। इतना ही नहीं शादी के बाद ससुराल वाले भी उसे ये शर्मसार कर देने वाला काम करने के लिए मजबूर करते हैं। आखिर क्या है वो काम। कौन सा है यह समुदाय। आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से।

जरा सोचकर देखिए। शादी के बाद जब आप अपने ससुराल जाए तो आपकी मुँह दिखाई उन लोगों से करवाई जाए जो आपको दुआएं देने नहीं बल्कि खरीदने आए हैं तो आप क्या करेंगी? लेकिन ऐसा इस समुदाय में हो रहा है। आइये जानते हैं पूरी कहानी।

दिल्ली के नजफगढ़ में एक ऐसा समुदाय है, जहाँ पर ससुराल वाले खुद अपनी बहुओं से वेश्यावृति करवाते हैं। इस समुदाय का नाम “परना” है। खबरों के अनुसार प्रेमनगर बस्ती में रहने वाले “परना” समुदाय को काफी समय हो गया है। ये धंधा “परना” समुदाय वाले लोग पीढ़ियों से करवा रहे हैं।बहुत समय से है ये समुदाय

इस समुदाय में लड़कियों की शादी 12-15 साल की उम्र में करवा दी जाती है। वेश्यावृत्ति के साथ ये लड़कियां घर का काम भी करती हैं। अपने पति और बच्चों के लिए खाना बनाने के बाद वो रात को वेश्यावृति के लिए निकल जाती हैं। ये तो हुई आधी बात। इसका दूसरा पहलू जानकर आप हैरान रह जाएंगे। जो बहू वेश्यावृति करने से इनकार कर देती है, उस पर अत्याचार किया जाता है। कभी-कभी तो उनको जान से भी मार दिया जाता है। यही कारण है कि कई महिलाओं को न चाहते हुए भी इस धंधे में आना पड़ता है।

माता-पिता भी करते हैं ऐसा काम

हैरान करने वाली बात है कि माता-पिता खुद अपनी बेटी को इस धंधे में डालते हैं। वो अपनी बेटी को पढ़ाई नही करवाते बल्कि छोटी उम्र में ही उनकी शादी कर देते हैं। जी हां। आगे की बात तो आपको और भी ज्यादा चौंकाएगी। बताया तो ये भी जाता है कि लड़कियों के पैदा होते ही उनकी ट्रेनिंग के लिए उन्हें दलालों को सौंप दिया जाता है।इसके बदले लड़कियों के माँ-बाप को पैसे दिए जाते हैं।

इस समुदाय में लड़कियों की शादी नहीं होती बल्कि उन्हें बेच दिया जाता है। लड़के वाले अच्छा ऑफर देकर लड़कियों को खरीद लेते हैं। ऐसे में जो लड़के वाले सबसे ज्यादा पैसे देते हैं, लड़की उनकी हो जाती है। बाद में ऐसी लड़कियों के साथ क्या करते हैं ससुराल वाले। यह जानिए आगे।

शादी नहीं सौदा

असल में ये शादी, शादी न होकर एक सौदा होता है। वहीं ससुराल जाने के बाद भी लड़कियों को इस चीज से छुटकारा नहीं मिलता। वहां तो ससुराल वाले खुद अपनी बहुओं के लिए ग्राहक ढूंढते हैं।

कुछ महिलाओं ने किया विरोध

सभी महिलाएं इस रीति-रिवाज से खुश नहीं हैं। बहुत सारी महिलाओं ने इसके खिलाफ आवाज उठाई है। बहुत सारी महिलाओं को अपनी जान से हाथ भी धोना पड़ा है। क्या कोई इस विषय को लेकर जागरूक है? आइये जानते हैं।
महिलाएं पढ़ना चाहती हैं

इस दलदल में फंसी कुछ महिलाएं पढ़ना चाहती हैं। लेकिन, ये जाल इतना गहरा है कि महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले संगठनों की आवाज भी इस समुदाय तक नहीं पहुंच पाती हैं।
कोई ध्यान नहीं दे रहादेश के नेताओं के अनुसार उन्हें देश की चिंता है। लेकिन महिलाओं पर जो अत्याचार हो रहे हैं उन पर कोई ध्यान नहीं दे रहा। अगर सरकार इन मुद्दों पर ध्यान दे तो बहुत सारी महिलाओं की ज़िन्दगी बच जाएगी। देश को आजाद हुए कई दशक बीत गए हैं। लेकिन ऐसा लगता है कि इन महिलाओं के लिए अभी भी देश आज़ाद नहीं हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बच्चे को खाने में दिया सलाद तो बुला ली पुलिस, उसके बाद…

अक्सर ऐसा होता है कि बच्चों को खाने