राजस्थान में आंधी-तूफान से करीब 75 लोगों की हुई मौत

- in राजस्थान, राज्य

लखनऊ/जयपुरः पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कई इलाकों में बुधवार रात आई तेज आंधी और बारिश के कारण जानमाल का भारी नुकसान हुआ है. इन दोनों राज्यों में आंधी-बारिश के कारण हुए हादसे में अब तक करीब 75 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है. पश्चिमी यूपी के केवल आगार में ही 36 लोगों की मौत हुई है. राज्य में कम से कम 45 लोगों की मौत हुई है. अन्य 38 अन्य घायल हुए हैं. राजस्थान में 27 लोगों की मौत हुई है जबकि करीब 100 लोग घायल हुए हैं.राजस्थान में आंधी-तूफान से करीब 75 लोगों की हुई मौत

उत्तर प्रदेश के राहत आयुक्त संजय कुमार ने आज यहां बताया कि कल रात सूबे में आयी तेज आंधी-तूफान, बिजली गिरने और ओलावृष्टि के कारण हुए हादसों में 45 लोगों की मौत हो गयी. उन्होंने बताया कि सबसे ज्यादा जनहानि आगरा जिले में हुई जहां 36 लोगों की मौत हो गयी. इसके अलावा 35 अन्य जख्मी हो गये. जिले में इस प्राकृतिक आपदा से 150 जानवरों की भी मौत हुई है. जबर्दस्त आंधी-तूफान की वजह से अनेक मकान ध्वस्त हो गये और बिजली के खम्बे उखड़ गये. कुमार ने बताया कि बिजनौर में तीन, सहारनपुर में दो और बरेली, चित्रकूट, रायबरेली तथा उन्नाव में एक-एक व्यक्ति की भी मौत हुई है. पूरे प्रदेश में कुल 38 लोग घायल हुए हैं.

सीएम योगी ने तत्काल राहत पहुंचाने के दिए निर्देश

राहत आयुक्त ने बताया कि उन्होंने सभी प्रभावित जनपदों के जिलाधिकारियों को इस प्राकृतिक आपदा की वजह से हुए नुकसान का आकलन कर रिपोर्ट भेजने और प्रभावित लोगों को 24 घंटे के अंदर राहत वितरित करने के निर्देश दिये हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संबंधित जिलों के जिलाधिकारियों को आंधी-तूफान तथा बारिश से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत पहुंचाने का निर्देश दिया है . उन्होंने कहा कि सम्बन्धित जिलाधिकारी नुकसान का आकलन करते हुए प्रभावितों को बिना देर किये मुआवजा प्रदान करें. राहत कार्यों में किसी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जायगी. इस बीच, सूचना विभाग के प्रमुख सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि मुख्य सचिव राजीव कुमार ने आगरा के मण्डलायुक्त से बात करके उन्हें आज शाम तक पीड़ितों को सहायता दिलाने और घायलों का हाल लेने के लिये वरिष्ठ अधिकारियों को अस्पताल भेजने के निर्देश दिये हैं.

भरतपुर-धौलपुर में 22 लोगों की मौत

राजस्थान के कुछ हिस्सों में कल रात आई तेज आंधी में 27 लोगों की मौत हो गई और लगभग 100 लोग घायल हो गये. आपदा प्रबंधन और राहत सचिव हेमंत कुमार गेरा ने पीटीआई-भाषा को बताया कि प्रदेश के मत्स्य क्षेत्र में कल रात आई तेज आंधी में कई मकान ढह गए और बिजली के कई खंबे तथा पेड़ उखड़ गये जिससे कारण कई लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गये.

उन्होंने बताया कि तेज आंधी ने मुख्य रूप से तीन जिलों को प्रभावित किया. इसके कारण प्रदेश के भरतपुर में 12 लोगों की, धौलपुर में 10 लोगों की और अलवर में पांच लोगों की मौत हो गई. गेरा ने बताया कि तेज आंधी के कारण अलवर में 20 लोग, भरतपुर में 32 लोग और धौलपुर में 50 लोग घायल हो गये. घायलों में कुछ का उपचार जारी है जबकि अन्य लोगों को घर भेज दिया गया है. धौलपुर में एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हुआ है और उसे जयपुर रैफर किया गया है. उन्होंने बताया कि आंधी आपदा की विस्तृत रिपोर्ट की प्रतीक्षा है, हालांकि राहत दलों को सड़कों से मलबा हटाने, बिजली की सप्लाई को चालू करने सहित अन्य राहत कार्यो में लगाया गया है.

उन्होंने बताया कि आंधी प्रभावित जिला प्रशासन को आकस्मिक निधि कोष से राशि जारी की गई है. मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रूपये का मुआवजा, 60 प्रतिशत तक घायल हुए लोगों को दो-दो लाख रूपये का मुआवजा, 40 से 50 प्रतिशत तक घायल हुए लोगों को 60-60 हजार रूपये का मुआवजा दिया जायेगा. राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने प्राकृतिक आपदा पर दुख व्यक्त करते हुए जिला प्रशासन को निर्देश दिया है कि वह पीड़ितों को हर संभव राहत पहुंचाए. राजे ने आज ट्वीट कर पीड़ितों के शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवदेना व्यक्त की.

गहलोत ने दुख जताया

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने अपने जन्मदिन का कार्यक्रम निरस्त कर दिया है. गहलोत ने कहा कि प्रदेश के कुछ हिस्सों में आई तेज आंधी के कारण लोगों की मौत होने से हमें बहुत आघात पहुंचा है और दुख की इस घड़ी में हम पीड़ितों के परिजनों के साथ हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तराखंड में कांग्रेस ने बारिश से तबाही को लेकर राज्यपाल से की मुलाकात

देहरादून: प्रदेश में भारी बरसात के दौरान अतिक्रमण हटाओ