आनंदेश्वर पांडेय ने कहा खेल के मैदान में जब युवाओं का पसीना बहेगा तभी मिलेगा पदक

वाराणसी। भारतीय ओलंपिक संघ और भारतीय हैंडबॉल संघ इस कोशिश में हैं कि युवा वर्ग जो मैदान से दूर कमरे में मोबाइल और कम्प्यूटर पर सिमट गया है उसे मैदान पर लाना। इससे उसकी शारीरिक और मानसिक क्षमता में वृद्धि हो। यह कहना है भारतीय ओलंपिक संघ के कोषाध्यक्ष व भारतीय हैंडबॉल संघ के सचिव आनंदेश्वर पांडेय का।आनंदेश्वर पांडेय ने कहा खेल के मैदान में जब युवाओं का पसीना बहेगा तभी मिलेगा पदक

मंगलवार को लहुराबीर स्थित एक होटल में उन्होंने बताया कि हम लोग इसकी शुरुआत ग्रामीण क्षेत्रों से कर रहे हैं। वहां पर खेले जाने वाले परंपरागत खेलों को हर स्तर पर बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए युवा मंगल दल को भी सक्रिय किया जा रहा है। कहा कि जकार्ता एशियाड में हम इस बार अच्छी संख्या में पदक जीतेंगे। बशर्ते डोपिंग से बचने के लिए खिलाड़ी को खुद जागरूक होना चाहिए। बीएचयू के एस्ट्रो टर्फ हॉकी मैदान पर हॉकी इंडिया जल्द ही कोई बड़ा कार्यक्रम आयोजित करने का प्रयास करेगा।

उन्होंने बताया कि इस सत्र से पुरुष एवं महिला हैंडबॉल लीग मंडल स्तर पर शुरू होगी। इसमें कम से कम चार टीमें होंगी और हर जनपद का प्रतिनिधित्व अवश्य होगा। खेलो इंडिया के तहत बनारस में जल्द ही इंडोर स्टेडियम बनेगा, वहीं पर हैंडबॉल अकादमी स्थापित की जाएगी। गंगा के उस पार बीच हैंडबॉल को भी बढ़ावा देने का प्रयास रहेगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

केरल बाढ़ पीड़ितों की सराहनीय मदद हेतु यूपी पत्रकार एसोसिएशन को किया सम्मानित

लखनऊ : हाल ही में केरल में आयी