अमेरिकी संसद ने कुत्ते और बिल्ली का मांस खाने पर लगाई रोक

अमेरिकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा ने बुधवार को एक विधेयक पारित करके इंसानों के खाने के लिए कुत्तों और बिल्लियों को मारने पर प्रतिबंध लगा दिया। इसके साथ ही पारित किए गए एक अन्य बिल में चीन, दक्षिण कोरिया, विएतनाम और भारत जैसे देशों से भी भोजन के लिए इन पशुओं की हत्या पर रोक लगाने का आग्रह किया गया है। इसमें कहा गया है कि करुणामय समाज में इस तरह की चीजों के लिए कोई स्थान नहीं है।

प्रतिनिधि सभा में यह गैर विवादित बिल ध्वनि मत से पारित किया गया। इसमें इंसानों के खाने के लिए अमेरिकी लोगों के कुत्ते और बिल्लियों को मारने पर प्रतिबंध लगाया गया है। कुत्ता और बिल्ली मांस व्यापार निषेध कानून 2018 के उल्लंघन पर पांच हजार डॉलर (करीब तीन लाख 50 हजार रुपए) के जुर्माने का भी प्रावधान किया गया है जबकि दूसरे विधेयक में दुनिया के दूसरे देशों से कुत्तों और बिल्लियों के मांस का कारोबार बंद करने का अनुरोध किया गया है।

चीन में हर साल मारे जाते हैं एक करोड़ कुत्ते

संसद सदस्य क्लाउडिया टेनी ने कहा, “कुत्ते और बिल्ली सहानुभूति और लगाव के लिए होते हैं। दुर्भाग्य से चीन में हर साल इंसानों के भोजन के लिए एक करोड़ कुत्तों को मार दिया जाता है। हमारे करुणामय समाज में इन चीजों के लिए कोई स्थान नहीं है। यह बिल अमेरिका के मूल्यों को दर्शाता है और सभी देशों को यह कड़ा संदेश देता है कि हम इस अमानवीय और क्रूर बर्ताव का साथ नहीं देंगे।”

सू की ने पत्रकारों को जेल भेजने के अदालती फैसले का किया बचाव

इन देशों से भी किया अनुरोध

विधेयक में चीन, दक्षिण कोरिया, विएतनाम, थाईलैंड, फिलीपींस, इंडोनेशिया, कंबोडिया, लाओस और भारत समेत दुनिया के अन्य देशों से कुत्तों और बिल्लियों के मांस के व्यापार पर प्रतिबंध लगाने का अनुरोध किया गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

भारत ने रोहिंग्याओं के लिए बांग्लादेश को राहत सामग्री प्रदान की

भारत ने हिंसा के कारण म्यामांर छोड़कर बांग्लादेश में शरणार्थी