अखिलेश यादव ने शुरू की मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारी

लखनऊ। मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अकेले ही मैदान में उतरने पर मजबूर समाजवादी पार्टी ने भी जोरदार तैयारी कर ली है। पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ में पार्टी की मध्य प्रदेश की इकाई के साथ बैठक करने के बाद जनसंपर्क अभियान को गति देने का निर्देश भी दिया है।अखिलेश यादव ने शुरू की मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारी

बहुजन समाज पार्टी के मध्य प्रदेश में कांग्रेस के साथ गठबंधन के फैसले के बाद अलग पड़े अखिलेश यादव ने वहां पर सभी सीट पर समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी उतरने का मन बना लिया है। अखिलेश यादव 19 व 20 जुलाई को मध्य प्रदेश जायेंगे। वहां पर वह दो दिन में कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे। लखनऊ की बैठक में योजना बनी है कि मध्य प्रदेश में समाजवादी पार्टी अपने प्रत्याशी खड़े करेगी। समाजवादी पार्टी के जिताऊ और निष्ठावान प्रत्याशी होगें।

अखिलेश यादव ने कल पार्टी के उपाध्यक्ष उपाध्यक्ष किरनमय नंदा, मध्य प्रदेश अध्यक्ष गौरी यादव, इंदौर के पूर्व सांसद कल्याण जैन के साथ ही चंद्रपाल सिंह, सुरेंद्र नागर, नीरज शेखर व पूर्व मंत्री राजेंद्र चौधरी की मौजूदगी में मध्य प्रदेश से पधारे नेताओं के साथ बैठक की। उन्होने कहा कि पार्टी संगठन को मजबूत करना और चुनावों में हिस्सा लेना साथ-साथ होगा। चुनाव में समय कम है अत: बूथ स्तर और विधानसभा स्तर पर सुनियोजित ढंग से काम करना है। जनसंपर्क कार्य में तेजी लानी होगी। पार्टी को मजबूत बनाने के लिए संगठन कार्य में समय देना होगा।

लखनऊ में कल अखिलेश यादव मध्य प्रदेश के पार्टी पदाधिकारियों, प्रभारियों तथा प्रमुख कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित किया। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकारें नकारात्मक प्रशासनिक व्यवस्थाएं चला रही है। भाजपा की मध्य प्रदेश में सरकार है जिसने प्रदेश को बर्बाद के कगार पर पहुंचा दिया है। किसानों को कर्जमाफी के नाम पर धोखा मिला है। उनके आंदोलन पर दमनचक्र चला है। जीएसटी-नोटबंदी से सभी परेशान हैं। बैकों पैसा लेकर लोग विदेश भाग गए हैं। विकास को जाति और धर्म में बांट दिया गया है। विकास और सामाजिक न्याय दोनों का संतुलन होगा।

अखिलेश यादव ने कहा कि 19-20 जुलाई को वह मध्य प्रदेश में रहेगें। भोपाल में कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करेंगे तथा मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनावों पर चर्चा करने के बाद रणनीति पर विचार करेंगे। उनकी मांग है कि आधार के सहारे जनगणना में जातीय गणना भी हो ताकि सानुपातिक रूप से समाज के सभी वर्गो की भागीदारी तय हो सके। उन्होने कहा कि मध्य प्रदेश में लोग भाजपा से नाराज हैं परन्तु कांग्रेस से भी खुश नही है। समाजवादी पार्टी को चुनाव में मजबूत प्रत्याशी उतारने होगें और संगठन सुदृढ़ करना होगा।

मध्य प्रदेश से आए पार्टी नेताओं ने कहा कि समाजवादी पार्टी की व्यापक उपस्थिति से मध्य प्रदेश में हलचल है। यूपी के विकास की सूचना मध्य प्रदेश के गरीबों को है। समाजवादी सरकार की योजनाओं से प्रभावित हैं। किसानों को भुगतान एक-एक साल तक नहीं होता है। उनका शोषण होता है। युवाओं के लिए अखिलेश यादव प्रेरणा स्रोत हैं। मध्य प्रदेश के चुनावों को प्रभावित कर सकते है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

CM योगी का तीखा वार: कहा- अखिलेश की हालत ‘मान ना मान, मैं तेरा मेहमान’ वाली

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा ने सपा प्रमुख