यूपी पीसीएस मेन्स परीक्षा को लेकर अखिलेश यादव ने तारीख आगे बढ़ाने की मांग की

- in उत्तरप्रदेश, लखनऊ

लखनऊ । उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की पीसीएस मेन्स परीक्षा 2017 की तारीख आगे बढ़ाने की मांग में अब समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव भी कूद पड़े हैं। अखिलेश यादव का मानना है कि मेन्स की परीक्षा देने वाले छात्र-छात्रा को तैयारी का पर्याप्त समय नहीं मिला है। इस कारण से इसकी तारीख को आगे बढ़ाया जाए। पीसीएस मेन्स की परीक्षा कल से होगी।यूपी पीसीएस मेन्स परीक्षा को लेकर अखिलेश यादव ने तारीख आगे बढ़ाने की मांग की

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की यूपी पीसीएस मुख्य परीक्षा 2017 की तारीख को लेकर विरोध बढऩे लगा है। इस मामले में कई अभ्यर्थी सरकार से तारीखें बढ़ाने की गुहार लगा चुके हैं। इसके साथ कई जगह पर प्रदर्शन भी हुआ, लेकिन हाईकोर्ट ने भी परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने के मामले में किसी की नहीं सुनी है। अब अखिलेश यादव कल से होने वाली परीक्षा को आगे बढ़ाने की मांग कर रहे है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री तथा समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज ट्वीट कर युवाओं के हित में परीक्षाएं आगे बढ़ाने की मांग की है। अखिलेश यादव ने लिखा है कि यूपी पीसीएस मेन्स 2017 के लिए अभ्यर्थियों को पूरे एक महीने की भी तैयारी का समय न दिया जाना, उनके साथ अन्याय है। सरकार को इसकी तारीख बढ़ानी चाहिए। यह लाखों युवाओं के भविष्य का सवाल है।

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की यूपी पीसीएस मुख्य परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की मांग लेकर अभ्यर्थियों ने बीती पांच जून लखनऊ में बीजेपी प्रदेश कार्यालय पर प्रदर्शन किया था। अभ्यर्थियों का कहना था कि परीक्षा 18 जून से कराने का कार्यक्रम घोषित किया गया है। इतने कम समय में अभ्यर्थी अपनी तैयारी नहीं कर सकते। इसके अलावा इसी दौरान कई अन्य राज्यों की भी परीक्षाएं हैं, जो इससे क्लैश होंगी।

प्रतियोगी छात्रों का नेतृत्व कर रहे भ्रष्टाचार मुक्त मोर्चा के अध्यक्ष कौशल सिंह ने बताया कि हमारी मांग मुख्य रूप से पीसीएस 2017 की परीक्षा को लेकर है। हमको आयोग के सचिव ने आश्वासन दिया था कि परीक्षा जुलाई के तीसरे सप्ताह में होगी। अचानक से जून की तिथि घोषित की गई है।

अभी तक पीसीएस 2016 का रिजल्ट जारी नहीं किया गया है। वहीं जून में दूसरे राज्यों की परीक्षाएं हैं। 20 दिन में अभ्यर्थी आठ पेपर कैसे तैयार कर लेंगे। उन्होंने कहा कि प्रतियोगी छात्रों के साथ अन्याय किया जा रहा है। इसे लेकर हम मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश शासन से मांग कर रहे हैं कि मामले में हस्तक्षेप करके परीक्षा परीक्षा जुलाई तीसरे सप्ताह में कराएं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

CM योगी का तीखा वार: कहा- अखिलेश की हालत ‘मान ना मान, मैं तेरा मेहमान’ वाली

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा ने सपा प्रमुख