पंजाब में अकाल तख्त ने बनाया सिख सेंसर बोर्ड, फिल्म रिलीज करने से पहले लेनी होगी मंजूरी

- in पंजाब, राज्य

अमृतसर। श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने सिख धर्म से संबंधित फिल्मों के मामले में सख्ती दिखाते हुए फिल्म सेंसर बोर्ड की तर्ज पर 21 सदस्यीय सिख सेंसर बोर्ड का गठन कर दिया है। उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री को हिदायत दी है कि भविष्य में सिख धर्म से संबंधित फिल्म बनाने या दृश्यों को रिलीज करने से पहले निर्माता-निर्देशक श्री अकाल तख्त से लिखित मंजूरी हासिल करें। सिख धर्म पर कोई टीवी सीरियल बनाने पर भी यह मंजूरी लेनी होगी।पंजाब में अकाल तख्त ने बनाया सिख सेंसर बोर्ड, फिल्म रिलीज करने से पहले लेनी होगी मंजूरी

जत्थेदार ने बताया कि बोर्ड फिल्मों में सिख इतिहास, सिख विरासत, गुरु मर्यादा से संबंधित दृश्यों की जांच के बाद अपनी रिपोर्ट श्री अकाल तख्त को भेजेगा। अकाल तख्त से मंजूरी के बाद ही फिल्म का निर्माण हो सकेगा। निर्माण के बाद रिलीज से पहले भी मंजूरी हासिल करनी होगी। दृश्यों व अन्य सामग्री की जांच के लिए गठित सेंसर बोर्ड का कोआर्डिनेटर  एसजीपीसी के उपसचिव (धर्म प्रचार कमेटी) सिमरजीत सिंह को बनाया गया है। 

ये हैैं बोर्ड के सदस्य

तख्त श्री दमदमा साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह तथा श्री दरबार साहिब के ग्रंथी मान सिंह को भी सिख सेंसर बोर्ड का सदस्य मनोनीत किया गया है। अन्य सदस्यों में एसजीपीसी सदस्य भगवंत सिंह सियालका, हरदीप सिंह मोहाली, बीबी किरणजोत कौर, सचिव धर्म प्रचार कमेटी, डीएसजीपीसी के चेयरमैन (धर्म प्रचार) परमजीत सिंह, दमदमी टकसाल से ज्ञानी परङ्क्षमदर सिंह, ज्ञानी जसबीर सिंह रोडे आदि को शामिल किया गया है।

नानक शाह फकीर की रिलीज को लेकर हुआ था विवाद

हाल ही में धार्मिक फिल्म नानक शाह फकीर की रिलीज को लेकर विवाद खड़ा हो गया था। अकाल तख्त ने फिल्म की रिलीज पर रोक लगाते हुए इसके निर्माता हरजिंदर सिंह सिक्का को पंथ से निष्कासित कर दिया था। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने से इन्कार कर दिया था, लेकिन सिख धर्म के रोष को देखते हुए पंजाब सहित कुछ और राज्यों में फिल्म रिलीज नहीं हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के