वायुसेना दिवस: राफेल की धमाकेदार एंट्री, आसमान में उड़ान भर रहे लड़ाकू विमाल दिखाएगे अपनी ताकत

अगर कुल विमानों की संख्या की बात करें तो भारत के पास जहां 2123 विमान हैं, वहीं चीन के पास 3210 और पाकिस्तान के पास 1372 है। अगर अब विमानों को अलग-अलग कैटगरी में बांट दिया जाए तो लड़ाकू विमानों की संख्या में चीन सबसे आगे है। भारत के पास 538 लड़ाकू विमान हैं, जबकि चीन के पास 1232 लड़ाकू विमान हैं। पाकिस्तान इस मामले में काफी पीछे है और उसके लड़ाकू विमानों की संख्या महज 365 है। 

Loading...

इसके अलावा, भारत के पास 172 डेडिकेटेड अटैक वाले विमान हैं, वहीं चीन के पास 371 और पाकिस्तान के पास 90 हैं। ट्रांसपोर्टर के मामले में भारत (250), चीन ( 224) और पाकिस्तान (49) से भी आगे है। भारत के पास महज 23 लड़ाकू हेलीकॉप्टर हैं, वहीं चीन के पास 281 और पाकिस्तान के पास 56 है। हेलीकॉप्टर के मामले में भारत और चीन एक दूसरे के काफी करीब हैं। भारत के पास जहां 722 हेलीकॉप्टर हैं, वहीं चीन के पास 911 हैं। पाकिस्तान के पास मात्र 346 हेलीकॉप्टर ही हैं। 

इसके अलावा, स्पेशल मिशन वाले विमानों की संख्या भारत में 77 है तो चीन के पास 111 है। पाकिस्तान के पास स्पेशल विमान मात्र 29 ही हैं। वहीं प्रशिक्षण विमान के मामले में भारत (359) चीन (314) से भी आगे है। हां, इस मामले में पाकिस्तान सबसे आगे 513 पर है। बता दें कि ये सभी आंकड़ें ग्लोबल फायर पावर से लिए गए हैं। 

loading...
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button