उम्र के साथ खत्म हो जाता है सेक्स का मजा? जानें ऐसे ही 5 सवालों के जवाब

- in 18+

सेक्स या शारीरिक संबंध से जुड़ी कई ऐसी बाते हैं, जिन्हें अधिकतर लोग सच मानते हैं लेकिन यह एक मिथक से ज्यादा कुछ भी नहीं। सेक्स विशेषज्ञ डॉक्टर निक्की गोल्डस्टीन ने सेक्स से जुड़े ऐसे ही कुछ मिथकों को दूर करने की कोशिश की है। 

1. सेक्शुअल प्लेजर इस बात पर निर्भर करता है कि सेक्स कितनी देर हुआ 

क्या ज्यादा देर करना बेहतर होता है? डॉ. निक्की का कहना है कि कुछ लोगों के लिए समय मायने रखता है और कुछ के लिए नहीं। एक सर्वे में 75 फीसदी पुरुषों ने यह बात थी कि सेक्स की अवधि 

एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है। जबकि महिलाओं में 43.2 फीसदी ने इस बात को स्वीकार किया था। हालांकि कुछ लोगों के लिए सेक्स की अवधि से ज्यादा दूसरी चीजें मायने रखती हैं। सर्वे में 49.2 फीसदी महिलाओं ने कहा था कि उन्हें सेक्स से ज्यादा फोरप्ले और ओरल सेक्स जैसी चीजें प्रभावित करती हैं। 

2. पोर्न में दिखाया गया सेक्स परफेक्ट होता है 

हमें आमतौर पर लगता है कि पोर्न में जो सेक्स दिखाया जाता है वह बेस्ट होता है। कई बार लोग उसे फॉलो करने की कोशिश भी करते हैं। हालांकि डॉक्टर निक्की का कहना है कि भले ही स्क्रीन पर पोर्न स्टार्स काफी देर तक और अलग-अलग प्रकार से सेक्स करते दिखाए जाते हों, मगर असल जीवन में वो खुद भी ऐसा नहीं करते। 

3. महिलाओं को पुरुषों के बराबर सेक्स का मन नहीं होता 

ऐसा इसलिए समझा जाता है क्योंकि महिलाओं को सेक्स के लिए तैयार करना थोड़ा मुश्किल काम होता है। ऐसे में समझा जाता है कि उन्हें पुरुषों के जितना मन नहीं होता। मगर ऐसा नहीं है। महिलाएं अपनी सेक्स इच्छाओं को सामाजिक दबाव के चलते भी छिपाकर रखती हैं। 

4. महिलाओं में सेक्स इच्छाएं पैदा करना पुरुषों का काम है 

31 फीसदी पुरुषों का मानना है कि महिलाओं को सेक्स के लिए राजी करना मुश्किल काम है। दरअसल महिलाएं ऐसी सोच के बीच बड़ी होती हैं जहां माना जाता है कि महिलाओं में सेक्स इच्छाएं पैदा करना सिर्फ पुरुषों का काम है। कई बार महिलाओं को खुद ही तय करना चाहिए कि उन्हें बेडरुम में क्या और कैसे करना है। 

5. एक सीमा के बाद सेक्स इच्छाएं खत्म होती जाती हैं 

ऐसा माना जाता है कि महिलाओं और पुरुषों में एक समय ऐसा आता है जिन दिनों में वह अपने चरम पर होते हैं। इसके बाद धीरे-धीरे इच्छाएं कम होती जाती हैं। हालांकि सेक्स विशेषज्ञ का इससे इनकार है। उन्होंने कहा, “सेक्स में ‘चरम समय’ जैसी कोई चीज नहीं होती। सेक्स उम्र के साथ और बेहतर होता जाता है। हो सकता है कुछ दिनों बाद यह उतना जल्दी या एनर्जी के साथ ना हो, मगर यह पहले से ज्यादा संतुष्टि देने वाला होगा।” 

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

सुहागरात के बाद महिलाओ के मन में ज़रूर आती है यह बातें

शादी हर किसी के जीवन में खास महत्त्व