अब कर्नाटक के बाद हरियाणा में मोदी व शाह का बढ़ेगा जोश, करेंगे खास फोकस

चंडीगढ़। देश में लगातार विजय पताका फहरा रही भाजपा अब राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा पर फोकस करेगी। कर्नाटक चुनाव से फारिग होने के बाद भाजपा हाईकमान न केवल हरियाणा में संगठनात्मक गतिविधियां बढ़ाएगा, बल्कि सरकार के कामकाज में भी तेजी लाई जाएगी। कार्यकर्ताओं और जनता का भरोसा जीतने के मूलमंत्र के साथ मोदी सरकार के करीब 12 मंत्री हरियाणा में भेजे जाएंगे। यहीं से हरियाणा को दूसरी बार जीतने का माहौल तैयार किया जाएगा। अब कर्नाटक के बाद हरियाणा में मोदी व शाह का बढ़ेगा जोश, करेंगे खास फोकस

उधर, विदेश दौरे से भारत लौटने के बाद मुख्‍यमंत्री मनाेहलाल भाजपा की कर्नाटक में जीत पर काफी खुश नजर आए। नई दिल्‍ली में इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डा से बाहर अाने के बाद उन्‍होंने विजय का निशान बनाकर अपनी खुशी जाहिर की। प्रदेश के भाजपा नेताओं ने भी कर्नाटक के चुनाव परिणाम पर खुशी जताई है।

कर्नाटक फतेह के बाद अब हरियाणा पर फोकस करेंगे पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह

भाजपा पहले ही मिशन 2019 का आगाज हरियाणा से कर चुकी है। भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने जींद रैली से इसकी शुरुआत की थी। शाह के हरियाणा दौरे के बाद हाईकमान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे का कार्यक्रम भी तैयार किया था, लेकिन एक रणनीति के तहत पूरा फोकस पहले कर्नाटक पर रखा गया। कर्नाटक में भारी जीत के बाद अब जहां पूरे देश में एक बड़ा राजनीतिक संदेश गया है, वहीं इस जीत की ऊर्जा से लबालब मोदी सरकार के मंत्री तथा शाह के राजनीतिक दूत हरियाणा में भी अपनी गतिविधियां बढ़ाने आने वाले हैैं। इसके लिए सरकार और संगठन के नेताओं को कमर कसने के लिए कह दिया गया है।

एक दर्जन केंद्रीय मंत्रियों के साथ ही शाह की टीम डालेगी हरियाणा में डेरा,पीएम नरेंद्र मोदी भी हरियाणा आएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में हरियाणा से तीन मंत्री हैैं। हरियाणा करीब एक दर्जन केंद्रीय योजनाओं का लांचिंग पैड भी रह चुका है। ये मंत्री किसी न किसी रूप में सीधे तौर पर हरियाणा से जुड़े हुए हैैं। लिहाजा इन सभी मंत्रियों को योजनाबद्ध तरीके से हरियाणा सरकार के साथ बैठकें करने, मंत्रियों के साथ चर्चा करने तथा कार्यकर्ताओं से मुलाकात के लिए कहा जा रहा है। ये मंत्री संगठन और सरकार के कील कांटे दुरुस्त करने का भी काम करेंगे। शाह की टीम के प्रमुख लोगों को संगठन के साथ बैठकें करने की जिम्मेदारी दी जाएगी।

भाजपा के प्रांतीय अध्यक्ष सुभाष बराला तथा प्रांतीय संगठन महामंत्री सुरेश भट्ट  मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ चर्चा कर प्रमुख राष्ट्रीय नेताओं के कार्यक्रमों को अंतिम रूप देने की तैयारी में जुट गए हैैं। विदेश से लौटे मुख्यमंत्री मनोहर लाल जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी हरियाणा लाएंगे, ताकि कर्नाटक चुनाव में मिली भारी जीत का जोश हरियाणा में माहौल बनाने के काम आ सके।

दिल्ली से सटा होने के कारण हरियाणा की खास अहमियत

देश की राजधानी दिल्ली से सटा होने के कारण भाजपा समेत सभी राजनीतिक दलों ने हमेशा ही हरियाणा को अहमियत दी है। हरियाणा में अगले लोकसभा तथा विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा, कांग्रेस, इनेलो-बसपा गठबंधन तथा आम आदमी पार्टी चुनावी समर में होंगे। इसके चलते हरियाणा का रण बेहद दिलचस्प रहने वाला है। इस रण में भाजपा पूरी प्लानिंग के साथ अपना हुनर दिखाने की तैयारी कर रही है।

मोदी व शाह का गुरूमंत्र लेकर हरियाणा पहुंचेंगे केंद्रीय मंत्री

हरियाणा में पहली बार अपने दम पर सत्ता में आई भाजपा के लिए चुनौतियां भी कम नहीं हैैं। राज्य में कई बार हो चुका जाट आंदोलन, गुरमीत राम रहीम प्रकरण और रामपाल की गिरफ्तारी समेत कई ऐसी घटनाएं हैैं, जो चुनाव में विपक्ष का मुद्दा बन सकती हैैं। इन मुद्दों की काट के लिए केंद्रीय मंत्री हरियाणा में मोदी और शाह का गुरुमंत्र लेकर पहुंचेंगे। शाह की जींद रैली के बाद ही हाईकमान ने यह तय कर लिया था कि अब हरियाणा में तमाम राजनीतिक गतिविधियों को हाईकमान के माध्यम से ही आगे बढ़ाया जाएगा।

आंतरिक सर्वे के आधार पर दुरुस्त होंगी खामियां

कर्नाटक में भाजपा को पूर्ण बहुमत मिलने के बाद हरियाणा में मंत्रिमंडल में बदलाव की चर्चाएं एक बार फिर जोर पकड़ सकती हैैं। हरियाणा में पिछले कई माह से मंत्रिमंडल में बदलाव के कयास लगाए जा रहे हैैं। कार्यकर्ताओं को खुश करने तथा विधायकों की नाराजगी दूर करने के लिए कुछ बदलाव संभव भी हैैं। इस बदलाव से पहले भाजपा राज्य में एक आंतरिक सर्वे कराने की तैयारी में है, ताकि उसी के आधार पर खामियों को दुरुस्त किया जा सके।

=>
=>
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कांग्रेस के डिप्टी सीएम का बड़ा बयान, कहा- कुमारस्वामी को पांच साल देने पर नहीं हुआ फैसला

बेंगलुरु । कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार के विश्वास मत