खाते सीज होने की चर्चाओं को सिद्धू बताया साजिश, कहा- आयकर रिटर्न में काेई गड़बड़ नहीं

- in पंजाब, राज्य

पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू एक बार फिर चर्चाओं में हैं। आयकर विभाग द्वारा उनके दो बैंक खातों को सीज करने की खबरों से पंजाब में राजनीतिक माहौल गर्म हाे गया। चर्चा ज्‍यादा फैली ताे सिद्धू सामने आए और इसे गलत करार दिया। सिद्धू ने कहा, इस तरह की कोई बात नहीं है आैर साजिश के तहत यह झूठ फैलाया जा रहा है। आयकर रिटर्न में कोई गड़बड़ नहीं हुई है।

बता दें कि कुछ निजी टीवी चैनलों ने एक एजेंसी के हवाले से बताया था कि आयकर विभाग ने नवजोत सिंह सिद्धू के दो बैंक खाते सीज कर दिया है। बताया गया कि आयकर विभाग ने उनकी रिटर्न में गड़बड़ी के चलते यह खाते सीज किए हैं। दूसरी ओर सिद्धू ने इस सब को कोरे झूठ का पुलिंदा बताया। सिद्धू ने कहा कि उनके खिलाफ षड्यंत्र के तहत इस तरह दुष्प्रचार करार किया जा रहा है।

रीता बहुगुणा जोशी का बयान, कहा- राहुल गांधी अभी राजनीति में परिपक्व नहीं

बताया जाता है कि सिद्धू पर आरोप है कि उन्होंने पूरा टैक्स अदा नहीं किया है। टीवी चैनलों की खबरों में बताया कि  2014-15 के रिटर्न में सिद्धू ने जो खर्चे दिखाए हैं उनके बिल पेश नहीं किए थे। सूत्रों के हवाले से बताया गया कि रिटर्न में सिद्धू ने कपड़ों पर 28 लाख, यात्र पर 38 लाख से ज्यादा, फ्यूल पर करीब 18 लाख, स्टाफ की सेलरी पर 47 लाख से ज्यादा का खर्च दिखाया है।

बताया जाता है कि इस पर आयकर विभाग ने सिद्धू को टूक कहा कि या तो वो बिल पेश करें या फिर टैक्स अदा करें। यह भी चर्चा है कि इसे लेकर विभाग की तरफ से सिद्धू को तीन नोटिस भी जारी किए गए। इसके बाद 14 फरवरी को विभाग ने सिद्धू के दो खाते सीज कर 58 लाख की रिकवरी की।

दूसरी ओर, सिद्धू ने इन आरोपों को नकार दिया है। उनका कहना है कि मेरा इनकम टैक्स पूरी तरह से सही है, पिछले 10 साल से कुछ भी गलती नहीं की है। सिद्धू ने कहा है कि करीब डेढ़ माह पूर्व आयकर विभाग से उनके पुराने पते पर आयकर रिकवरी संबंधी नोटिस जरूर आया था। सिद्धू का कहना है कि ऐसा इसलिए हुआ था क्योंकि उनके दिल्ली के बैंक अकाउंट पर पुराने पते दिए गए थे अब वह उस पते पर नहीं रहते हैं मंत्री बनने के बाद उनका पता चेंज हो गया है इसलिए विभाग को भी इसकी पूरी जानकारी नहीं थी।

सम्बंधित समाचार

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के