गांधी-नेहरू पर अभद्र टिप्‍पणी में AAP नेता आशुतोष पर FIR, बोले- छीनी जा रही बोलने की आजादी

- in दिल्ली, राज्य

नई दिल्ली। अश्लील सीडी प्रकरण में फंसे दिल्ली सरकार के तत्कालीन मंत्री संदीप कुमार का ब्लॉग लिखकर बचाव करना आम आदमी पार्टी (AAP) नेता आशुतोष को भारी पड़ गया है। संदीप कुमार के बचाव में अपने ब्लॉग पर महात्मा गांधी, पंडित जवाहर लाल नेहरू, अटल बिहारी वाजपेयी आदि के बारे में की गई अभद्र टिप्पणी के मामले में AAP के प्रवक्ता आशुतोष के खिलाफ मंगलवार सुबह दिल्ली के बेगमपुर थाने में मामला दर्ज किया गया। IPC की धारा 292 और 293 के तहत मामला दर्ज हुआ है। गांधी-नेहरू पर अभद्र टिप्‍पणी में AAP नेता आशुतोष पर FIR, बोले- छीनी जा रही बोलने की आजादी

वहीं, इससे पहले आशुतोष ने प्रतिक्रिया स्वरूप मंगलवार सुबह दो ट्वीट किए। एक हिंदी में व एक अंग्रेजी में। हालांकि, दोनों में ही लगभग एक ही बात कही गई है। ट्वीट में उन्होंने कहा है कि मेरे ख़िलाफ़ FIR दर्ज करने का अदालत का आदेश आया है। ट्वीट के जरिये उन्होंने प्रतिक्रिया दी है कि अदालत का पूरा सम्मान है। लेकिन जो लोग अदालत गए हैं वो मेरे बोलने की आज़ादी पर रोक लगाना चाहते हैं। मैं अपना पक्ष अदालत में रखूंगा। गांधी मेरे आदर्श थे और रहेंगे। उनका अपमान करने का सवाल ही नहीं उठता।’

यहां पर बता दें कि करीब दो साल पूर्व की गई इस टिप्पणी को लेकर सोमवार को रोहिणी कोर्ट की अतिरिक्त मुख्य महानगर दंडाधिकारी (एसीएमएम) एकता गाबा की अदालत ने बेगमपुर थाने के एसएचओ को उनके खिलाफ मामला दर्ज करने का निर्देश दिया था। अदालत ने उनके खिलाफ किताब, पैम्पलेट आदि के माध्यम से लिखित रूप से अश्लील सामग्री परोसने व उसे कम उम्र के युवाओं के बीच प्रसारित करने की धाराओं में मामला दर्ज करने को कहा है। अदालत ने इस मामले की जांच रिपोर्ट अब 24 जुलाई को पेश करने का भी निर्देश दिया है।

एसीएमएम ने कहा कि इस मामले में प्रतिवादी आशुतोष ने पब्लिक डोमेन में जल्दबाजी में लोकप्रियता हासिल करने की कोशिश में नेताओं व विद्वानों पर इल्जाम मढ़ दिये। इनमें अटल बिहारी को छोड़कर बाकी नेता अपने चरित्र को लगाए गए इन आरोपों को गलत साबित करने के लिए उपलब्ध नहीं हैं।

खासकर आशुतोष ने महात्मा गांधी के बारे में जो आरोप लगाए हैं, वह अश्लील व कामुक हैं। चूंकि, महात्मा गांधी राष्ट्रपिता हैं और उनका नाम लेते ही सभी के मन में एक आदर्श पुरूष, स्वतंत्रता सेनानी, मानवता, समानता व गौरव के एक महान व्यक्तित्व की छवि बनती है।

उनके अथक प्रयासों से ही देश को आजादी मिली और उन्हें मैन ऑफ मिलेनियम की उपाधि से नवाजा जाता है। ऐसी सामग्रियां सोशल मीडिया के इस्तेमाल में प्रवृत्त युवा पीढ़ी के दिमाग को अव्यवस्थित करती हैं। समाचार पत्र पढ़ने वाले पाठकों को प्रभावित करती है। एसीएमएम एकता गाबा ने कहा कि आशुतोष ने राजनीतिक लाभ के लिए ऐसे महान लोगों की छवि को धूमिल करने की कोशिश की है। ऐसे में उनकी नजर में इस मामले में प्रथम दृष्टया आशुतोष के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के पर्याप्त आधार हैं।

यह था मामला

AAP के प्रवक्ता आशुतोष ने दो सितंबर 2016 को पार्टी के मंत्री संदीप कुमार के बचाव में ब्लॉग पर पोस्ट किया था। जिसमें उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू, महात्मा गांधी, पूर्व प्रधानमत्री अटल बिहारी वाजपेयी, समाजवादी विचारक डॉ. राम मनोहर लोहिया, जॉर्ज फर्नाडीस के महिला मित्रों के संबंधों के बारे में आपत्तिजनक बातें लिखी थीं। अगले दिन उनके ब्लॉग पर व्यक्त किए विचारों को समाचार पत्रों ने भी प्रकाशित किया था। कराला के जैन नगर के योगेंदर सिंह ने अपने वकील परदीप खत्री के माध्यम से पहले इसकी शिकायत पुलिस से की थी, लेकिन जब पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की तो उन्होंने मार्च 2017 में कोर्ट का शरण लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बहराइच: मंत्री लगा रहीं ठुमके, बुखार से बच्चों की मौत का क्रम जारी

बहराइच तथा पास के जिलों में संक्रामक बुखार