चंडीगढ़ में बनेगा खास PM मोदी से जुड़ी यादों का संग्रहालय, होगा ये नाम

चंडीगढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई साल केंद्रीय संगठन मंत्री रहते हुए चंडीगढ़ में बिताए हैं। मोदी से जुड़ी यादों को ताजा करने के लिए चंडीगढ़ में जल्द ही ‘हमारे मोदी जीद्’ संग्रहालय स्थापित करने की तैयारी है। भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ कार्यालय में संग्रहालय तैयार करवाएगी। सेक्टर-33 स्थित प्रदेश कार्यालय कमलम के नवीनीकरण के अंतर्गत इस संग्रहालय को तैयार किया जाएगा।चंडीगढ़ में बनेगा खास PM मोदी से जुड़ी यादों का संग्रहालय, होगा ये नाम

1995 से 2000 तक चंडीगढ़ में रहे मोदी

गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी 1995 से 2000 तक जब क्षेत्रीय संगठन मंत्री थे तो उनका चंडीगढ़ में भी प्रवास रहा। शहर में प्रधानमंत्री के बिताए पलों को सहेजने के लिए संग्रहालय में उनसे जुड़ी चीजें रखी जाएंगी। इन यादगार चीजों में मोदी के उस समय के फोटोग्राफ्स, पेंटिंग्स और अन्य प्रकार के दस्तावेज, लेखनी आदि को रखा जाएगा।

तीन लोगों की कमेटी देखेगी काम

भाजपा कमलम संग्रहालय को स्थापित करने की जिम्मेदारी पार्टी संगठन से जुड़े तीन लोगों की कमेटी को दी गई है। इसमें पार्टी के कोषाध्यक्ष राजकिशोर को संयोजक, पूर्व अध्यक्ष और पूर्व महापौर कमला शर्मा, पूर्व अध्यक्ष धर्मपाल गुप्ता को शामिल किया गया है। पार्टी के प्रदेश महासचिव चंद्रशेखर ने कहा कि ये लोग उस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से संपर्क में थे और राजकिशोर के परिवार के साथ तो उनका संपर्क सात वर्ष तक रहा। उन्होंने ट्राईसिटी के लोगों से अपील की, कि जिस किसी के भी पास प्रधानमंत्री मोदी से जुड़ी हुई किसी भी प्रकार की कोई वस्तु, लेख, फोटो आदि कुछ भी हो, वह उनसे साझा करें।

नए कार्यालय में सभी हाईटेक सुविधाएं मिलेंगी

चंडीगढ़ में भाजा के कार्यालय कमलम का कायाकल्प किया जा रहा है। कार्यालय में अब ई-लाइब्रेरी, मीडिया कक्ष, सूचना एवं प्रौद्योगिकी कक्ष, विशाल सभागार, पैंट्री, महत्वपूर्ण कक्ष और सभी जिला और मोर्चा के कार्यालयों का निर्माण पूरा हो चुका है। कार्यालय में आधुनिक तकनीक से युक्त 24 घंटे सीसीटीवी, वाटर स्प्रिन्क्ल और पानी के जलस्तर के बढ़ाव के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को भी स्थापित किया गया है। इसके साथ-साथ पार्टी ने अब इस भवन में सोलर एनर्जी के प्लांट की स्थापना के लिए भी अपने कदम आगे बढ़ा दिए है। ताकि अधिक से अधिक बिजली की बचत की जा सके।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के