खुद लौटकर तीन और बच्चियों को छुड़ा चुकी है 

रातू की नाबालिग बेटी ने साहस का परिचय दिया है। 14 जून को नाबालिग लौटकर रांची आई है। अपने साथ तीन और बच्चियों को छुड़ाकर लाई है। उसे दिल्ली के रजौरी गार्डेन के एक फ्लैट में बंधक बनाकर रखा गया था। वापस लौटने के बाद उन्हें बेचने वाली ट्रैफिकर सुषमा और उसके एक सहयोगी के खिलाफ रातू थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।

ट्रैफिकर सुषमा पंडरा फ्रेंड्स कॉलोनी की रहने वाली है। अक्टूबर 2017 में उसने रातू की नाबालिग को दिल्ली ले जाकर बेच दिया था। नाबालिग को पंजाबी बाग के दो मंजिले मकान में रखा गया था, जहा तीन और लड़किया प्रताड़ना भरी जिंदगी जी रही थीं। 14 जून को वह ग्रिल पकड़ कर किसी तरह नीचे आई। इसके बाद बारी-बारी से तीनों को लड़कियों को भी नीचे उतरवाया। तीन दिन बाद चारों किसी तरह छिपते-छिपाते ट्रेन से 17 जून को राची पहुंचीं। वह रिश्तेदार सरजू नागार्ची के माध्यम से बेची गई थी।