85 धर्मशास्त्रियों को ‘दीक्षा’ देंगे रामदेव, कही ये बड़ी बात…

- in राष्ट्रीय

योग गुरु बाबा रामदेव राम नवमी के अवसर पर हरिद्वार में 25 मार्च को 85 धर्मशास्त्रियों को दीक्षा देंगे। इन धर्मशास्त्रियों में योगी सहित धार्मिक विद्वान भी शामिल होंगे। रविवार को जारी किए गए बयान में कहा गया है कि 25 मार्च को धार्मिक समारोह का आयोजन किया जाएगा, जहां इन धर्मशास्त्रियों को रामदेव दीक्षा देंगे। बयान में कहा गया है कि योग गुरु सभी लोगों को एक मंत्र देंगे और ध्यान करने के लिए प्रोत्साहित भी करेंगे। इसके अलावा व्रत रखने के फायदे बताएंगे। सभी धर्मशास्त्रियों को इस राम नवमी के समारोह में अनुशासन से रहने की शिक्षा भी दी जाएगी। वहीं दीक्षा लेने वाले सभी लोगों के रहने के लिए एक गांव भी विकसित किया जा रहा है, इस गांव को इस तरह से बनाया जा रहा है जहां ये सभी धर्मशास्त्री आध्यात्मिकता के प्रति खुद को समर्पित करते हुए अपना जीवन जी सकें।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बाबा रामदेव का कहना है कि जनेऊ के लिए कहा जाता है कि इसे केवल ब्राह्मण ही पहनते हैं, लेकिन दीक्षा लेने के बाद इसे शूद्र भी पहन सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र, हर कोई संन्यासी बनने के लिए हमारे पास आता है। ऐसा कहा जाता है कि जनेऊ केवल ब्राह्मण ही पहन सकते हैं, लेकिन हमने निम्न वर्ग के कई लोगों को यहां तक कि महिला संन्यासियों को भी जनेऊ पहनने के लिए कहा।’

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र ने कहा, बेहद सुरक्षित हैं आधार डाटा

आपको बता दें कि इस राम नवमी को रामदेव के संन्यासी बनने के 23 साल पूरे हो जाएंगे। 85 ब्रह्मचारियों और ब्रह्मचारिणियों को संन्यास दीक्षा देने पर रामदेव ने कहा है कि ये संन्यासी ही उनके उत्तरदायित्वों को निभाएंगे। इन सभी संन्यासियों मेंर 50 ब्रह्मचारी और 35 ब्रह्मचारिणी हैं। इनमें से बहुत से लोग इंजीनियर हैं तो कुछ लोग एमबीए पास हैं। रामदेव ने इन संन्यासियों को चुनने के लिए बेहद की कठिन परीक्षा ली। सभी लोगों से चारों वेदों की ऋचाओं से जुड़े हुए कई सवाल पूछे गए। रामदेव ने कहा है कि वह 2050 तक एक आध्यात्मिक और आर्थिक शक्ति संपन्न परम वैभवशाली भारत बनाने की तैयारी कर रहे हैं। इस खातिर 85 धर्मशास्त्रियों को संन्यास की दीक्षा दी जा रही है।

 

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी