60 प्रतिशत अमेरिकी, डोनाल्ड ट्रंप के कामकाज से नाखुश

अमेरिका के करीब 60 प्रतिशत लोगों ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कामकाज को नामंजूर कर दिया है और इनमें से करीब आधे लोगों ने महाभियोग का समर्थन किया है. शुक्रवार को प्रकाशित ‘वॉशिंगटन पोस्ट-एबीसी न्यूज’ सर्वेक्षण के अनुसार केवल 30 प्रतिशत लोगों ने ही ट्रंप द्वारा व्हाइट हाउस में किए गए कामकाज को स्वीकारा है. अप्रैल में किए गए आखिरी पोस्ट-एबीसी के सर्वेक्षण में ट्रंप के समर्थन में 40 प्रतिशत और उनके खिलाफ 56 प्रतिशत लोगों ने अपने विचार जाहिर किए थे. इस ताजा सर्वेक्षण में 1003 वयस्कों ने हिस्सा लिया,जो 26 अगस्त से 29 अगस्त के बीच किया गया.

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अगले साल जनवरी में असैन्य कर्मचारियों को मिलने वाली वेतन बढ़ोतरी को रद्द कर दिया है. राष्ट्रपति ने देश के बजट और राजस्व स्थिति का हवाला देते हुए संसद को अपने फैसले से अवगत कराया. हालांकि कर्मचारियों के वेतन में आंशिक वृद्धि हो सकती है क्योंकि सांसद इस तरह के एक प्रस्ताव पर विचार कर रहे हैं.

ट्रंप ने कहा कि सभी कर्मचारियों को बिना किसी भेदभाव के वेतन में मिलने वाली 2.1 प्रतिशत बढ़ोतरी को कम करके 1.9 प्रतिशत करने और अलग से प्रदर्शन के आधार पर मिलने वाली 25.7 प्रतिशत बढ़ोतरी को भी खत्म करने पर विचार किया जा रहा है. ट्रंप ने कहा, ‘ हमारे देश को वित्तीय रूप से टिकाउ स्थिति में लाने के लिए प्रयास करते रहना चाहिए और संघीय एजेंसी वेतन में वृद्धि नहीं दे सकती है.’

दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप नवंबर में फ्रांस और अर्जेंटीना की यात्रा करेंगे, वहीं सिंगापुर में होने वाले आसियान सम्मेलन का हिस्सा नहीं बनेंगे. व्हाइट हाउस ने शुक्रवार को घोषणा की कि ट्रंप पेरिस में प्रथम विश्व युद्ध के विराम के 100 वर्ष पूरे होने के मौके पर आयोजित 11 नवंबर के कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. उसके बाद वह ब्यूनस आयर्स रवाना होंगे और वहां जी-20 सम्मेलन में शिरकत करेंगे.

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति सिंगापुर में दक्षिण पूर्व एशियाई राष्ट्रों के संघ (आसियान) सम्मेलन तथा ईस्ट एशिया शिखर सम्मेलन में भाग नहीं लेंगे. वह पापुआ न्यू गिनी में होने वाली एशिया प्रशांत आर्थिक सहयोग की बैठकों में भी हिस्सा नहीं लेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पाक ने की वर्ल्ड बैंक से शिकायत, कहा सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा भारत

पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र मिशन के एक बयान