Home > अन्तर्राष्ट्रीय > अगर इमरान आतंकवाद से खत्म कर दें रिश्ता, तो 6 गुना हो जाएगा भारत-पाक ट्रेड

अगर इमरान आतंकवाद से खत्म कर दें रिश्ता, तो 6 गुना हो जाएगा भारत-पाक ट्रेड

भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूत करने की कवायद रंग लाए तो दोनों देशों को सबसे बड़ा फायदा आपसी कारोबार को 6 गुना करने का होगा. मौजूदा समय में भारत और पाकिस्तान लगभग 5 बिलियन अमेरिकी डॉलर का  कारोबार करते हैं. इस कारोबार का बड़ा हिस्सा दोनों देशों के बीच एक तीसरे देश के सहारे किया जाता है. जाहिर है यह उल्टे हाथ से कान पकड़ने की कवायद है. अब दोनों देशों के बीच संबंधों को सुधारने की कवायद में लगे राजनयिक और कारोबारियों की मानें तो महज सीधे हाथ से कान पकड़ने पर दोनों देशों के बीच महज कुछ दिनों में द्विपक्षीय कारोबार 30 बिलियन अमेरिकी डॉलर का आंकड़ा पार कर लेगा.6 गुना हो जाएगा भारत-पाक ट्रेड, बस आतंकवाद से मुंह मोड़ लें इमरान

इस उम्मीद को केन्द्र में रखते हुए भारत की मौजूदा पाक नीति कहती है कि भारत की कोशिश है कि वह सभी मुद्दों को बातचीत के रास्ते हल करे. इस बातचीत में इन दो देशों के अलावा किसी अन्य की कोई भूमिका नहीं है. और इस बातचीत के लिए बेहद अहम है कि आतंकवाद से मुंह मोड़ लिया जाए क्योंकि आतंकवाद को पनाह देना और आपसी रिश्तों को मजबूत करने  की कवायद एक साथ नहीं की जा सकती है. इस बातचीत को शुरू करने के लिए ऐसा माहौल तैयार करने की जरूरत है जहां आतंकवाद और हिंसा का साया मौजूद न हो.

पाकिस्तान में आम चुनावों के बाद इमरान खान की नई सरकार स्थापित हो चुकी है. इसके चलते एक बार फिर भारत ने कवायद तेज कर दी है कि धार्मिक, सामाजिक और आर्थिक रिश्तों को मजबूत करने के लिए दोनों देश अर्थव्यवस्था को  केन्द्र में रखने के लिए तैयार हो जाएं. हाल ही में लाहौर चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री को संबोधित करने हुए पाकिस्तान में भारत के  उच्चायुक्त अजय बिसारिया ने दावा किया कि दोनों देशों के बीच संबंधों को सुधारने का काम सबसे आर्थिक रिश्तों को मजबूत करके किया जा सकता है.

बिसारिया ने यह दावा भी किया कि मौजूदा द्विपक्षीय कारोबार को देखें तो महज इस दिशा में सफलता मिलते ही दोनों देशों को अपना कारोबार 6 गुना करने में मदद मिलेगी. इस दलील के साथ बिसारिया ने भारत का पक्ष रखते हुए पाकिस्तान की नई सरकार से पेशकश की है कि उसे जल्द से जल्द भारत और पाकिस्तान के बीच आपसी कारोबार को बाधित करने वाले नॉन टैरिफ ट्रेड बैरियर्स को खत्म कर देना चाहिए.

गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच 2004-2008 तक चले कंपोजिट डायलॉग के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच सीधे कारोबार में तेज इजाफा दर्ज हुआ. इस इजाफे के बीच सितंबर 2012 में दोनों देश आर्थिक रिश्तों को शीर्ष पर ले जाने के बेहद नजदीक पहुंच गई और एक रोडमैप तैयार किया गया जिससे दोनों देशों के बीच वाघा बॉर्डर पर सभी ट्रेड बैरियर हटाने के साथ-साथ एक-दूसरे को मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) की मान्यता देने पर सहमति बनी. इसके बाद दिसंबर 2012 तक भारत ने पाकिस्तान को एमएफएन स्टैटस (किसी भी देश के साथ कारोबार में भेदभाव नहीं करने की नीति) दे दिया लेकिन पाकिस्तान ने इस रोडमैप को नजरअंदाज कर दिया.

भारत की इस पेशकश पर लाहौर चैंबर के प्रेसिडेंट मलिक ताहिर जावेद का कहना है कि आंतकवाद की घटनाओं और हिंसा के  चलते दोनों देशों के  कारोबारी रिश्तों के झटका लगता रहा है. ताहिर के मुताबिक जब दोनों देशों के बाच स्थिति सामान्य होने लगती है, दोनों देश अधिक कारोबार करते हैं. लेकिन जैसे ही कारोबार नया कीर्तिमान स्थापित करता है राजनीतिक कारणों से दोनों देशों का कारोबार फिर निचे का रुख कर लेता है. लिहाजा, बेहद जरूरी है कि दोनों देश आतंकवाद को दरकिनार कर कारोबारी रिश्तों को मजबूत करें और द्विपक्षीय रिश्ते को आर्थिक आधार देने का काम करें.

क्या है कारोबार

आपसी कारोबार में भारत पाकिस्तान को कपास, ऑर्गैनिक केमिकल, मशीनरी, खाद्य सामग्री, सब्जी, प्लास्टिक, चाय, कॉफी और चीनी जैसे अहम उत्पाद निर्यात करता है. वहीं पाकिस्तान से भारत कॉपर और कॉपर उत्पाद, फल और ड्राई फ्रूट्स, सीमेंट, चमड़ा उत्पाद जैसे अहम उत्पादों का आयात करता है. मौजूदा समय में भारत-पाकिस्तान के बीच दो अहम ट्रेड रूट है जिसमें मुंबई से कराची समुद्री रास्ते के जरिए और वाघा बॉर्डर से लैंड रूट शामिल है.

इसके अलावा, पुंछ में चाकन दा बाघ और उरी में सलामाबाद के जरिए कारोबार किया जाता है हालांकि यह दोनों रूट जम्मू-कश्मीर और पाक अधिकृत कश्मीर के बीच कारोबार के लिए अहम है. खास बात है कि इन सभी रूट के जरिए कारोबार में वृद्धि तब देखने को  मिलती है जब राजनीतिक रिश्ते सामान्य रहते हैं वहीं किसी बड़ी आतंकी घटना या सीमापार से घुसपैठ की घटनाओं के बीच इस रूट्स से कारोबार को बंद कर दिया जाता है. इसके चलते दोनों देशों के बीच बिजनेस कर रहे भारत और पाकिस्तान के ज्यादातर कारोबारी किसी तीसरे देश के माध्यम से व्यापार करते हैं.

मिसाल के तौर पर पाकिस्तान प्रति वर्ष भारत से बड़ी मात्रा में कपास और चीनी की खरीद करता है लेकिन यह व्यापार आपसी रिश्तों के चलते बाधित न हो, अधिकांश कारोबार खाड़ी के किसी अन्य देश के माध्यम से किया जाता है. इसके चलते जहां पाकिस्तान को भारत से मिलने वाले उत्पाद के  लिए अधिक खर्च करना पड़ता है वहीं भारत के कारोबारी को भी पाकिस्तान के लिए भेजे जाने वाले उत्पाद को किसी तीसरे देश भेजने का खर्च वहन कर कम मुनाफे पर काम करना पड़ता है. पाकिस्तान में एक बार फिर लोकनांत्रिक सरकार बनी है. इमरान खान सूबे के नए प्रधानमंत्री है. लेकिन देखना यह है  कि क्या इमरान खान भारत से रिश्तों को मजबूत करने के लिए ऐसी पहल करने के  लिए तैयार होंगे?

Loading...

Check Also

सीमा को अवैध रूप से पार करने का मामला : ट्रंप की रोक के खिलाफ कानूनी समूहों ने अदालत में कहा…

ह्यूस्टन: अमेरिकी-मैक्सिको सीमा को अवैध रूप से पार करने वाले किसी भी व्यक्ति को शरण देने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com