500, 2000, 200, 50 और 10 के बाद RBI अब जारी करेगा 100 रुपये का नया नोट

- in कारोबार, बड़ी खबर

आरबीआई की ओर से 100 रुपये के नोट को बदलने के संकेत दिए गए हैं। नोट छापने के लिए देवास, नासिक, मैसूर और सल्वोनी में प्रिंटिंग प्रेस हैं। इसके अलावा मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद और नोएडा में सिक्के बनाने के कारखाने हैं।500, 2000, 200, 50 और 10 के बाद RBI अब जारी करेगा 100 रुपये का नया नोटहालांकि, अभी यह साफ नहीं किया गया कि कब तक नए नोट बाजार में आएंगे। लेकिन जाली करेंसी के काले कारोबार से निपटने के लिए जल्द ही आरबीआई एक और बड़ा व चौंकाने वाला फैसला ले सकती है। आरबीआई भवन के सभागार में आयोजित रीजनल मीडिया वर्कशॉप में आरबीआई करेंसी डिपार्टमेंट के सीजीएम अजय मिचयारी ने बताया कि नोटों के बदलाव से उनकी सुरक्षा बढ़ जाती है।

उन्होंने पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में बताया कि अभी तक एक हजार व पांच सौ सहित कई प्रकार के नोटों में परिवर्तन किया गया है। उसी प्रकार आने वाले समय में एक सौ के नोट में भी बदलाव देखने को मिल सकता है। एक सौ के नोट में बदलाव कब तक किया जाएगा, इस सवाल के जवाब में अजय मिचयारी ने कहा कि यह बदलाव कभी भी हो सकता है।

अजय ने बताया कि यह फैसला फेक करेंसी पर रोक लगाने के लिए लिया जा रहा है। इसकी हमारी ओर से पूरी तैयारी है। जैसे ही हमें नोट बदलने के लिए कहा जाएगा। हम तत्काल इसकी प्रक्रिया शुरू कर देंगे। फिलहाल, उन्होंने अभी नोट बदलने की तिथि का खुलासा नहीं किया है। यह काम एक महीने में भी हो सकता है और छह महीने भी लग सकते हैं।

आरबीआई के मुताबिक, नया नोट जारी किया जाएगा, लेकिन पुराना नोट चलता रहेगा। उसे धीरे-धीरे वापिस लिया जाएगा, ताकि लोगों को परेशानी न हो। नए नोट का आकार एवं प्रकार पुराने नोट की अपेक्षा छोटा और अधिक आकर्षक होगा। नोट की डिजाइन तकरीबन तैयार हो चुकी है। नोट के रंग में बहुत अधिक परिवर्तन नहीं किया गया है। इसके रंग का आधार नीला ही रहेगा, लेकिन हल्केपन के साथ।

नए नोट का वजन भी कम होगा। सौ रुपये का यह नया नोट भारतीय कागज से तैयार होगा। वहीं नोट पर विश्वदाय स्मारक को जगह दी जाएगी, जिसे यूनेस्को ने वैश्विक धरोहर में शामिल किया है। कहा जा रहा है कि सौ रुपये के नए नोट में कई हाई सिक्योरिटी फीचर होंगे। इन्हें यूवी लाइट में देखा सकता है। वैसे भी बता दें कि हर मूल्य वर्ग के नोट में विशेष सुरक्षा फीचर होते हैं, जिन्हें लोग नहीं जानते।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इस सुरंग में आज भी भटकती है अंग्रेज इंजीनियर की रूह

शिमला: वैसे तो हमारे देश भारत में डरावनी