5 ऐसी जगह जहां आपका हंसना कर सकता है आपको बर्बाद

- in ज़रा-हटके

हंसना हमारे जीवन में बेहद ही जरूर है, हंसने से हमारा मन तो प्रसन्न रहता ही है साथ ही हम कई सारी बीमारियों से भी दूर रहते है. एक हल्की सी मुस्कान हमारे चेहरे की रौनक बड़ा देती है. हँसना न केवल हमारी सेहत के लिए अच्छा होता है बल्कि हमारे लुक के लिए भी बहुत अच्छा होता है क्योंकि हँसते हुए हर एक व्यक्ति सुन्दर दिखता है. हंसने पर किसी प्रकार की पाबन्दी नहीं है आप जंहा चाहे वंहादिल खोलकर हंस सकते है लेकिन आप ये शायद ही जानते होंगे कि कुछ जगह ऐसी भी होती है जंहा आपका हंसना किसी पाप से कम नहीं या फिर यूँ कहे कि आपका हंसना किसे के दिल को दुखी कर सकता है. जी हां आप ये सुनकर हैरान जरूर होंगे लेकिन ये सच है. कुछ जगह ऐसी है जंहा आप हंस नहीं सकते, तो चलिए जानते है कि वो कौन सी ऐसी जगह जंहा आपका हंसना सही नहीं है.5 ऐसी जगह जहां आपका हंसना कर सकता है आपको बर्बाद

श्मशान : ये एक ऐसी जगह है जंहा पर इंसान दुखों के पहाड़ से गुजरता है वो अपने किसी इंसान को दूर चले जाने के कारण असमंजस में रहता है और अगर इस दौरान उसके सामने कोई हंस दे तो मान लो उसका दुःख और भी दोगुना हो जायेगा. इस दौरान आपका हंसना शोभा नहीं देता. यही नहीं बल्कि आपके चेहरे पर हल्की मुस्कान भी आपको इस दौरान दूसरो के सामने निचा दिखा सकती है.

अर्थी के पीछे : जब अर्थी के साथ चलते है तो आपका इस दौरान हंसना किसी बेवकूफी से कम नहीं है. इस दौरान आपका हंसना किसी के दिल को गहरी चोट दे सकता है या फिर यूँ कहे कि उसके मन में आपके प्रति घृणा पैदा कर देता है जो शायद कभी ख़त्म होने का नाम नहीं लेती है.

शोक में : शोक के दौरान अपना का हंसना सही नहीं है इस दौरान अगर आप हँसते है तो सामने वालों को लगेगा की किसी व्यक्ति के दुनिया से चले जाने पर आपको कोई फर्क नहीं पड़ रहा है भले ही आप इस तरह की सोच नहीं रखते हो लेकिन आपका हंसना दूसरो को इस तरह की बातें सोचने पर मजबूर कर देता है.

मन्दिर में : मंदिर में मुस्कुराना अच्छा होता है लेकिन उसका सटीक कारण होना चाहिए अगर आप किसी गरीब बच्चे यह फिर सीढ़ियों पर बैठे भिखारी को देखकर हँसते है तो ये आपको लोगों की नजरो में गिरा देगा, यही नहीं बल्कि इससे आपकी छवि भी ख़राब हो सकती है.

कथा में : किसी भी प्रकार की कथा में मन लगाकर बैठा जाता है अगर आपका मन नहीं है वह बैठने का तो पहले ही आप उस जगह से दूर हो जाये लेकिन अगर आप वह बैठते है और लोगों के बीच किसी बात पर ठहाके लगाते है तो कथा का अपमान है. ऐसा करने से आपके प्रति लोगों के मन में अलग धारणा पैदा होती है जो शायद सही नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

दोस्तों के सामने दुल्हन ने रख दी ऐसी शर्त, रह गए दंग!

अपने दोस्त की शादी के लिए हर कोई