20 साल बाद नेपाल में निकाय चुनाव के लिए कड़ी सुरक्षा सुरक्षा के बीच मतदान हुआ शुरू

नई दिल्ली| भारत के पड़ोसी देश नेपाल में रविवार यानि आज निकाय चुनाव के प्रथम चरण के लिए मतदान शुरु हो गया है. यहां आज राज्य संख्या तीन, चार एवं छह के 34 जिलों में मतदान हो रहा है. नेपाल में प्रथम चरण के लिए चुनाव प्रचार अभियान 11 मई की शाम बंद हो गया था. गौरतलब है कि नेपाल में 20 वर्ष बाद निकाय चुनाव हो रहे हैं.20 साल बाद नेपाल में निकाय चुनाव के लिए कड़ी

इस चुनाव में कई अंडरग्राउंड नेता अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. इनमें कई ऐसे भी हैं जिनका अराजकता से मामलों में बड़ा हाथ था लेकिन अब वे देश की मुख्यधारा से जुड़कर चुनाव का रास्ता अपना रहे हैं. इसको लेकर अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पहले ही हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है. आशंका है कि चुनाव के दौरान वहां का एक प्रभावशाली संगठन विरोध कर सकता है. इसको लेकर सीमा पर गुप्तचर एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं. आने-जाने वालों की कड़ी तलाशी ली जा रही है.

ये भी पढ़े: FBI का खुलासा: ओसामा का बेटा लेना चाहता है पिता की मौत का बदला

मालूम हो पहले चरण के चुनाव के दौरान नेपाल के कई हिस्सों में हिंसक घटनाएं हुई थीं. इतना ही नहीं नेपाल के एक प्रभावशाली गुट ने चुनाव के विरोध का ऐलान किया था. इसको लेकर वहां का प्रशासन पहले से ही सतर्क है. भारत में भी सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस, सशस्त्र पुलिस बल एवं सेना को तैनात किया गया है. इतने लंबे समयंतराल के बाद हो रहे चुनाव के बाद नेपाल में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. नेपाल सीमा से लगे सीमावर्ती क्षेत्रों के जंगलों में सघन कांबिंग अभियान चलाया जा रहा है.

भारत ने नेपाल में आज हो रहे स्थानीय निकाय के चुनाव के लिए करीब नौ करोड़ नेपाली रुपए के अलावा 50 वाहन और मोटरसाइकिलें बतौर उपहार भेंट की थीं. इनमें सात जीप, चार सेडॉन कार, बिनी बस, माइक्रोबस, 30 मोटरसाइकिलें और सात स्कूटरों के सहित करीब 50 वाहन प्रदान किए गए थे.

 
=>
=>
loading...

You may also like

…तो इस वजह से भारत यात्रा बीच में छोड़ स्वदेश लौटे नीदरलैंड के प्रधानमंत्री

नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रूट ने भारत की

loading...