Home > धर्म > 150 सालों बाद इस रामनवमी बन रहा है शुभ संयोग, इन दो अक्षर वालें लोगों की चमकने वाली है किस्‍मत

150 सालों बाद इस रामनवमी बन रहा है शुभ संयोग, इन दो अक्षर वालें लोगों की चमकने वाली है किस्‍मत

हमारी जिन्‍दगी में कई तरह के उतार चढ़ाव होते है, जिनका संबंध हमारे ग्रहों की चाल से माना जाता है। आपकों बता दे कि आने वाले रामनवमी को एक विशेष महासंयोग बन रहा है, जिसमें दो अक्षर वाले लोगों की किस्‍मत चमकने वाली है।

150 सालों बाद इस रामनवमी बन रहा है शुभ संयोग, इन दो अक्षर वालें लोगों की चमकने वाली है किस्‍मत150 सालों बाद इस रामनवमी बन रहा है शुभ संयोग, इन दो अक्षर वालें लोगों की चमकने वाली है किस्‍मतइस दुनिया में हर इंसान अपनी एक अलग पहचान लेकर पैदा नहीं होता पर जिस राशि और ग्रह नक्षत्र में वह जन्म लेता है, उसके कारण अवश्‍य अपने जीवन में एक अलग पहचान बनाता है और सफलता कि सभी उंचाइयो को छूता है इसलिए तो हर इंसान का नाम उसके जन्म के काल गणना और ग्रहों कि स्थिति के आधार पर रखा जाता है और शायद आप लोगों को यह बात नहीं पता होगी कि हर अक्षर का अपना एक अलग महत्त्व माना जाता है।

आपकी जानकारी के लिये बता दे कि इस दौरान मां दुर्गा के भक्‍त उनके 9 रूपों की पूजा करते है, दरअसल चैत्र नवरात्र से नववर्ष के पंचांग की गणना शुरू होती है। इस वर्ष चैत्र नवरात्रि की शुरुआत 18 मार्च से हुई थी जिसका समापन 26 मार्च को होगा। जानकारी के लिये बताते चले कि चारों नवरात्र का मकसद और मान्यताएं अलग-अलग हैं। पुराणों में चैत्र नवरात्र को आत्मशुद्धि और मुक्ति का आधार माना जाता है

वहीं शारद नवरात्र को वैभव और भोग प्रदान करने वाला माना गया है। गुप्त नवरात्र को तंत्र क्रिया से जुड़े हुए लोग अधिक मानते हैं। इस दौरान तांत्रिक और अन्य धर्म-कर्म से जुड़े लोग टोने-टोटके करते हैं। इस दौरान किए हुए टोने-टोटके असरकारक भी होते हैं। नवरात्री पर्व के दौरान कोई भी भक्‍त पूरे नौ दिनों का उपवास रखकर अपनी मनोकामनाओं को पूरा करते हैं जैसे जीवन में शांति, खुशी और सफलता लाने के लिए उपवास रखते हैं।

ज्‍योतिषों का मानना है, कि 150 वर्ष पश्‍चात बहुत ही शुभ संयोग बन रहा है, और माना जा रहा है, कि हर एक मनुष्‍य के जीवन में ऐसा समय अवश्‍य आता है, शास्‍त्रों के अनुसार इस बार के महासंयोग में R और M अक्षर से शुरू होने वाले जातकों को शुभ अवसर मिलने वाले है, इनके सभी कार्यो में सफलता मिलने के योग बन रहे है। अध्‍यात्‍म से जुड़ने के अवसर भी प्रदान होने वाले है। अत्‍यधिक लाभ होने वाला है

Loading...

Check Also

द्रौपदी को मिला था ऐसा वरदान, जिससे वह अपना कौमार्य वापस पा लेती थी

जैसे की हम सब जानते है की द्रौपदी ने कभी चुप रहने में विश्वास नहीं …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com