चमोली आपदा का 13वां दिनः 142 लोग अभी भी लापता, अब तक मिलें 62 शव

आईटीबीपी के डीजी ने किया आपदा प्रभावित क्षेत्र का दौरा
आईटीबीपी के डीजी एसएस देशवाल ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उत्तराखंड के चमोली जिले में बाढ़ प्रभावित रेणी और तपोवन क्षेत्रों का दौरा किया। उन्होंने रैणी गांव के ऊपरी क्षेत्र में बनी बनी झील का हवाई सर्वेक्षण भी किया।

अभी तक सुरंग के अंदर 161 मीटर तक हटाया मलबाअभी तक सुरंग के अंदर 161 मीटर तक मलबा हटाया गया है। सुरंग से मलबा निकालने का कार्य जारी है। बैराज साइट पर पंप से पानी निकालने के साथ ही डम्फर से मलबा हटाया जा रहा है।

सुरंग से मलबा निकालने का कार्य जारीविगत सात फरवरी को आई चमोली आपदा के 13वें दिन आज शुक्रवार को तपोवन सुरंग से मलबा निकालने का कार्य जारी है।

एक शव टीएचडीसी हेलंग से भी बरामदगुरुवार देर शाम एक शव टीएचडीसी हेलंग से भी बरामद हुआ है। अब तक 62 शव और 27 मानव अंग बरामद हो चुके हैं। 142 अभी भी लापता हैं।

अभी तक 27 मानव अंग बरामदचमोली आपदा के 13वें दिन आज शुक्रवार को तपोवन सुरंग से मलबा निकालने का कार्य जारी है। वहीं आसपास के आपदा प्रभावित क्षेत्रों में लापता लोगों की खोजबीन भी की जा रही है। आपदा में लापता 204 लोगों में से 61 शव मिल चुके हैं, जबकि 143 अभी भी लापता हैं। वहीं 27 मानव अंग भी अलग-अलग स्थानों से बरामद हुए हैं।

तीन लोगों के शव गुरुवार को बरामद हुए

-ऋषिगंगा की आपदा में लापता लोगों में से तीन लोगों के शव गुरुवार को बरामद हुए। आपदा के 12वें दिन तपोवन सुरंग से दो लोगों और रैणी गांव निवासी एक महिला का शव मिला। टनल से एक मानव अंग भी बरामद हुआ है। तीनों शवों की शिनाख्त भी हो गई है। 

अब तक टनल से 13 शव और एक मानव अंग बरामदसात फरवरी को ऋषिगंगा में आई बाढ़ में रैणी पावर प्रोजेक्ट और तपोवन जल विद्युत परियोजना में काम करने वाले कर्मचारियों और मजदूरों के अलावा स्थानीय लोग भी लापता हो गए थे। तपोवन परियोजना की टनल में बड़ी संख्या में कंपनी के कर्मचारियों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है। अब तक टनल से 13 शव और एक मानव अंग मिल चुका है। 

204 लोगों की गुमशुदगी हो चुकी दर्जजोशीमठ थाने में अब तक 204 लोगों की गुमशुदगी दर्ज की जा चुकी है। इसके साथ ही 56 परिजनों और 49 शवों के डीएनए सैंपल मिलान के लिए एफएसएल देहरादून भेजे गए हैं।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button