उम्मीदवार ने 30 मतों से हारने के बाद की आत्महत्या

कोलकाता। सुप्रिया के पति समीर के अनुसार उन्हें सुबह 8.40 बजे पता चला कि वो 30 मतों से हार गई हैं, जो TMC के प्रत्याशी अशोक सरकार को मिले थे। सुप्रिया को 320 वोट मिले थे वहीं अशोक सरकार को 350 वोट मिले। समीर ने बताया कि वोटिंग वाले देन सुप्रिया ने एक एजेंट को थप्पड़ मारा था क्योंकि एजेंट अपने बीमार दादा का वोट डालने पर आपत्ति दर्ज कराई थी। वो शख्स बीमार था, इसलिए पोते से वोट डलावाना चाह रहा था। सुप्रिया के पति समीर का कहना है कि अपनी मौत के कुछ देर पहले तक सुप्रिया TMC में वापस आने के संकेत दिए थे।

हारने के बाद की आत्महत्या

पश्चिम बंगाल में हाल ही में संपन्न हुए निकाय चुनाव में हारने वाली एक निर्दलीय उम्मीदवार ने हारने के बाद आत्महत्या कर ली। मिली जानकारी के अनुसार तृणमूल कांग्रेस से बागी हुईं 38 वर्षीय सुप्रिया डे 10 सालल से कूपप्स कैंप के वार्ड नंबर 1 से पार्षद थीं। नतीजे आए तो कूप्रस की सीट पर उन्हें सिर्फ 30 वोटों से हार मिली। निकाय चुनाव की कूपर्स कैंप की सीट के लिए 13 अगस्त को मतदान हुआ था और गुरुवार यानी 17 अगस्त को यहां मतगणना हुई। नतीजे आने के कुछ ही घंटों के भीतर सुप्रिया ने अलग-अलग ततरह की 35 दवाएं खा कर अपनी जान दे दी।

You May Read– बीच में उतारा कंडोम तो महिला ने खिलायी जेल की हवा

उनके पति ने कहा कि वो अभी भी पार्टी के कार्यकर्ता हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि TMC के कुछ कार्यकर्ताओं ने सुप्रिया से गाली गलौज की और वो डिप्रेशन में चल रही थी। समीर ने बताया कि 17 अगस्त को मतगणना वाले दिन 80 से 100 गाड़ी दो पहिया गाड़ी से उनके इलाक में चक्कर लगा रहे थे। समीर ने कहा कि सुबह करीब 10 बजे उनके घऱ के अंदर जबरदस्ती घुस कर ग्रिल तोड़ कर 20-25 लोग घुस गए और उनकी पत्नी को अंट शंट कहने लगे। समीर ने कहा कि वो अपने 12 साल के बेटे के लिए चिंतित थे और उसके साथ ही थे। इस दौरान सुप्रिया अंदर गईं और शुगर,बीपी, थायरॉइड समेत कई तरह की गोलियां खा लीं। दोपहर 1 बजे उन्हें अस्पताल ले जाया गया और 2.30 बजे उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

loading...
=>

You may also like

अभी-अभी: आतंकियों ने फिर बनाया सुरक्षा बलों को निशाना, एक जवान शहीद

घाटी में एक बार फिर से सुरक्षा बलों