Home > जीवनशैली > सावधान ! स्मार्टफोन की लत ड्रग्स जैसी, बच्चों को बना सकती है मंदबुद्ध‍ि

सावधान ! स्मार्टफोन की लत ड्रग्स जैसी, बच्चों को बना सकती है मंदबुद्ध‍ि

अगर आप अपने बच्चे के जिद करने पर उसे बड़ी आसानी से अपना स्मार्टफोन पकड़ा देते हैं, तो जरा सावधान हो जाएं. क्योंकि बच्चों के हाथ में स्मार्टफोन पकड़ाना कोकेन जैसी नशीली और जहरीली चीज पकड़ाने के बराबर है.

सावधान ! स्मार्टफोन की लत ड्रग्स जैसी, बच्चों को बना सकती है मंदबुद्ध‍ि

एक हालिया अध्ययन में यह बात सामने आई है कि स्मार्टफोन की लत में फंसे बच्चे, जहां माता-पिता के साथ कम समय बिता रहे हैं, वहीं Technology उनके मानसिक विकास और दिमाग को कमजोर भी कर रही है. स्मार्टफोन का ज्यादा इस्तेमाल करने वाले बच्चों की रचनात्मक प्रतिभा खत्म होने लगती है और उनमें फैसले लेने की क्षमता भी कमजोर पड़ जाती है.  

अध्ययन के दौरान पाया गया कि तकनीक के इस्तेमाल और फिजिकल एक्ट‍िविटी में तालमेल न होने के कारण बच्चों का शारीरिक विकास भी प्रभावित हो रहा है.

बॉयफ्रेंड ने अपनी सोती हुई गर्लफ्रेंड के बिस्तर में छोड़ दिया सांप….

पाया गया है घंटों स्मार्टफोन पर समय बिताना युवाअों के बीच Pornographic Images भेजने-देखना, Online गलत काम करने से पेरेंट्स की चिंता का कारण बनता जा रहा है. हाल ही में हर्ले स्ट्रीट क्ल‍िनिक द्वारा कराए गए एक सर्वे में 1,500 से अधिक श‍िक्षकों में से लगभग दो-तिहाई टीचर्स ने कहा है कि वे अश्लील फोटो भेजने और देखने वाले स्टूडेंट्स से वाकिफ हैं, जिनमें प्राइमरी स्कूल के बच्चे भी शामिल हैं.

अश्लील वीडियाे के मामले में पिछले तीन साल के दौरान 2,000 से अधिक श‍िकायत दर्ज कराए गए.

सर्वे में खुलासा किया गया है कि अध‍िकांश युवा लड़कियां मोबाइल फोन से किसी को Nude Photo भेजना सामान्य मानती हैं. अगर यही फोटो उनके पेरेंट्स देख लें तो यह ‘गलत’ हो जाता है. Broadcasting regulators के मुताबिक, तीन से चार साल के बच्चे हर हफ्ते Internet का छह घंटे इस्तेमाल करते हैं.

Loading...

Check Also

अगर आपकी भौंहों और पलकों पर है डैंड्रफ तो इन उपाय से करें उपचार...

अगर आपकी भौंहों और पलकों पर है डैंड्रफ तो इन उपाय से करें उपचार…

जब जंक फूड हमारी जिंदगी के का अब जैसे अहम हिस्सा बन चुके हैं. जंक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com