स्कूल बस का साढ़े तीन साल का मासूम इंतजार कर रहा था, उसी के पहिए के नीचे आने से मौत

यमुनानगर में दिल दहला देने वाला दर्दनाक हादसा हुआ है। जिस स्कूल बस का साढ़े तीन साल का मासूम इंतजार कर रहा था, उसी के पहिए के नीचे आने से उसकी मौत हो गई। हादसे के बाद आरोपित बस छोड़कर भाग गया। पुलिस आरोपित की तलाश में जुटी है। मासूम अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था।

Loading...

यमुनानगर के रादौर थाना क्षेत्र के गांव गुंदियाना में दीदार सिंह का साढ़े तीन साल का बेटा विरेन सरस्वती नगर के टैगोर शांति निकेतन स्कूल में पढ़ता था। शनिवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे वह घर के पास ही सड़क पर बस के इंतजार में खड़ा था। बस आई तो वह चढऩे लगा। अभी वह ठीक से संभल भी नहीं पाया था कि चालक ने बस चला दी। इससे विरेन सड़क पर आ गिरा और बस के पिछले पहिए के नीचे आ गया।

कुचलते हुए बस को ले गया चालक
चालक मासूम को कुचलते हुए आगे निकल गया। आसपास के लोगों ने जब शोर मचाया तो चालक रुका। लोग विरेन को उठाने को भागे। जब उसे उठाया गया तो उसकी मौत हो चुकी थी। परिजनों को इसकी सूचना दी गई। सुबह-सुबह बेटे की मौत की खबर मिलते ही माता पिता भागे। मृतक विरेन अपने माता पिता की इकलौती संतान था।

इस वर्ष कराया गया था दाखिला
विरेन का इसी साल टैगोर शांति निकेतन में दाखिला कराया गया था। परिवार के कई बच्चे एक साथ उसी बस से स्कूल जाते हैं। शनिवार को सभी बच्चे एक साथ दूसरी साइड में थे। क्योंकि चालक बस को वहां से वापस ले जाता था। लेकिन विरेन अकेले खड़ा था। इस वजह से चालक ने बस भी रोक दी, लेकिन परिचालक ने ध्यान नहीं दिया। विरेन अकेले ही बस में बैठने लगा। इसी दौरान चालक ने बस चला दी और विरेन पहिए के नीचे आ गया।

चालक-परिचालक पर केस, प्रबंधन पर जांच में जुटी पुलिस
परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने चालक सुखचैन और परिचालक रिषीपाल पर केस दर्ज कर लिया है, प्रबंधन की लापरवाही पर जांच की जा रही है। परिजनों का आरोप है कि स्‍कूल प्रबंधन से पहले भी बस चालक के खिलाफ तेज गति से बच चलाने की शिकायत की गई थी। बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *