सैनी के कार्यक्रम में युवक को पिस्तौल के साथ पकड़ा, रिश्तेदार ने दी धमकी- जींद में रैली करके दिखाओ

- in राज्य, हरियाणा
रोहतक.कुरुक्षेत्र से भाजपा के सांसद राजकुमार सैनी ने रविवार को पुराना शुगर मिल मैदान में लोकतंत्र सुरक्षा मंच की ओर से ऑर्गेनाइज भगवान परशुराम जन्मोत्सव समारोह में शिरकत की। कार्यक्रम में पहुंचने वालों के जूते और टोपी तक उतरवाकर देखी गई। इसके बावजूद समारोह में जींद के एक युवक अंकित पिस्तौल समेत पहुंच गया तो उसे वहां मौजूद सिक्योरिटी ने हिरासत में ले लिया।
सैनी के कार्यक्रम में युवक को पिस्तौल के साथ पकड़ा, रिश्तेदार ने दी धमकी- जींद में रैली करके दिखाओ
आगे पढ़िए पूरा मामला…
– युवक ने खुद को ब्राह्मण सभा जींद के प्रधान जगबीर भारद्वाज का पीएसओ बताया, लेकिन उसे छोड़ा नहीं गया।
– इस पर प्रधान जगबीर भारद्वाज ने हंगामा कर दिया। आयोजकों ने उन्हें समझाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने।
– कार्यक्रम के बाद मंच से उतरते ही राजकुमार सैनी के पास पहुंचे और अंकित को खुद का पीएसओ बताया।
– उन्होंने इसे अपना अपमान बताते हुए सैनी की जींद रैली को लेकर चेतावनी तक दी। लगभग 15 मिनट तक हंगामा और बहस होती रही। आयोजकों ने उनकी मान-मनौव्वल की और युवक को छुड़वाया।
– डीएसपी डॉ. रविंद्र ने बताया कि युवक हथियार लेकर समारोह में आया था। सुरक्षा के चलते उससे पूछताछ की थी। बाद में छोड़ दिया गया।
कहा- मैं किसी के इशारे पर नाचने वाली कठपुतली नहीं हूं
– समारोह में सांसद राजकुमार सैनी ने कहा कि भाजपा बड़ा समुंदर है, मैं एक छोटा सा कार्यकर्ता हूं। मैं किसी के इशारे पर नाचने वाली कठपुतली नहीं हूं।
– साल 2019 के चुनाव में सीएम पद का उम्मीदवार रहूंगा या नहीं, इसका फैसला जनता करेगी। हम 26 नवंबर को जींद की धरती पर दोबारा रैली करेंगे। वहां बता देंगे कौन कठपुतली है, कौन किसके इशारे पर चल रहा है, कौन आगे काम कर रहा है। पार्टी बनाने के लिए जनता से पूछूंगा। जनता ने कहा तो फैसला लिया जाएगा।
 
जाति विशेष का नहीं, दादागीरी का विरोध किया
– सैनी ने कहा कि मैं भाजपा का एमपी हूं। कार्यकर्ता हूं। इससे अलग नहीं हूं, मगर जिस तरह पिछले दिनों 10 प्रतिशत लोगों की दादागिरी के कारण, हत्या, लूट व आगजनी में शामिल होने के बावजूद मुआवजा, नौकरी और आरक्षण दिया जा रहा है तो न सरकार की जरूरत, न कचहरी या राजकुमार सैनी के एमपी रहने की।पार्टी के मंच पर एक बार नहीं कई बार इस मुद्दे को उठाने का प्रयास किया। एक बार तो माइक के साथ मेरी बात काट दी गई।
– रिजर्वेशन का बीज भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने लंबी पारी खेलने के लिए बोया था। इसका 10 साल इस्तेमाल भी किया। अब ये बीज चुगने भी भूपेंद्र हुड्डा को होंगे। उन्हें जवाब देना होगा। मैंने किसी जात या व्यक्ति का विरोध नहीं किया। मैंने दादागिरी का विरोध किया है और करता रहूंगा।

You may also like

पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा- आयोगों में राज्यवासियों की हो रही उपेक्षा

देहरादून: प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय