सुब्रमण्यम स्वामी ने सरकार को दी चेतावनी, कहा-1976 की नसबंदी…

जुबिली न्यूज डेस्क
कोरोना महामारी के बीच में सरकान ने मेडिकल और इंजीनियरिंग के लिए होने वाली प्रवेश परीक्षा NEET/JEE को आयोजित कराने का फैसला किया है, जिसका बड़े स्तर पर विरोध हो रहा है। विरोध करने वालों में सिर्फ विपक्ष ही नहीं बल्कि भाजपा सांसद भी शामिल हैं।

भाजपा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने इसको लेकर सरकार को चेताया है। स्वामी ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि ‘यदि मोदी सरकार अभी NEET/JEE की परीक्षा थोपने का फैसला करती है तो यह एक बड़ी गलती होगी।’
ये भी पढ़े: तो क्या राष्ट्रपति ट्रंप झूठे और धोखेबाज हैं?
यह भी पढ़ें : डंके की चोट पर : अज़ादारी पर बंदिश भक्त की नहीं हनुमान की बेइज्ज़ती है
यह भी पढ़ें :  प्रशांत भूषण मामले से कांग्रेस ने क्यों दूरी बना रखी है ?
उन्होंने एक उदाहरण देते हुए कहा कि ‘जैसे 1976 में कांग्रेस सरकार ने नसबंदी का फैसला किया था, उसके चलते 1977 में इंदिरा गांधी की सरकार उलट-पुलट हो गई थी। उसी तरह कोरोना माहमारी में NEET/JEE  की परीक्षा कराना भी एक गलती होगी।

उन्होंने कहा कि भारतीय मतदाता चुपचाप सब सहन कर लेते हैं लेकिन उनके मन में यादें लंबे समय तक रहती हैं।’
ये भी पढ़े: सरकार के जॉब पोर्टल पर कितने लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन और कितनों को मिली नौकरी
ये भी पढ़े:  चेतन मामले में संजय सिंह दर्ज कराएंगे FIR
ये भी पढ़े: जानिये कौन होगा कांग्रेस का नया अध्यक्ष
सरकार के इस फैसले का सुब्रमणयन स्वामी के अलावा दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया, कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी , राहुल गांधी और अधीर रंजन चौधरी ने भी पीएम मोदी से अपील की है कि नीट और जेईई की प्रवेश परीक्षा टाल देनी चाहिए।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button