सीएम मनोहर लाल की लंच डिप्लोमेसी का हुआ असर, बदले भाजपा विधायकों के सुर

- in हरियाणा

चंडीगढ़। मंत्रियों को डिनर के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल पार्टी विधायकों को लंच डिप्लोमेसी के जरिये साधने में सफल रहे। सीएम ने पार्टी में चल रही नाराजगी की अटकलों को भाव दिए बिना विधायकों के लिए अपने घर के दरवाजे चौबीस घंटे खोल दिए हैं। मुख्यमंत्री ने विधायकों को दोपहर का भोजन परोसते हुए न केवल विकास पर ध्यान देने का गुरुमंत्र दिया, बल्कि किसी भी तरह की दिक्कत आने पर सीधे बात करने को भी कहा।

सीएम मनोहर लाल की लंच डिप्लोमेसी का हुआ असर, बदले भाजपा विधायकों के सुरलंच डिप्लोमेसी का असर विधायकों पर भी साफ दिखा। भोजन से बाहर निकले विधायकों ने कहा कि हम मुख्यमंत्री के साथ तीन घंटे रहे। इस दौरान मंथन, भोजन और विश्राम किया। साथ ही दोहराया कि हमारे यहां कोई रोने वाला नहीं है, इसलिए कोई दिक्कत नहीं है। प्रदेश के विकास के लिए मंत्री, विधायक और पदाधिकारी अकसर आपस में चर्चा करते हैं और इसके कोई और मायने नहीं निकाले जाने चाहिए। सभी विधायक लजीज व्यंजन और मंथन से संतुष्ट दिखे।

सूत्रों के मुताबिक, मुख्यमंत्री ने विधायकों के साथ कई मुद्दों पर खुलकर चर्चा की। इस दौरान 2 अप्रैल के चौकीदार सम्मलेन की तैयारियों पर बात हुई तो 6 अप्रैल को पार्टी के स्थापना दिवस को बूथ स्तर तक मनाने के लिए विधायकों की भी ड्यूटी लगाने का फैसला हुआ। इसी तरह 8 अप्रैल को रोहतक में व्यापारी सम्मेलन की तैयारियों के अलावा 14 अप्रैल को डा. आंबेडकर जयंती को भी भव्य रूप से मनाने के मुद्दे पर मंथन के दौर चले। इस दौरान सियासी गतिविधियों पर भी चर्चा हुई।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला व प्रदेश संगठन महामंत्री सुरेश भट्ट ने मंत्री-विधायकों से सांगठनिक कार्यों पर बातचीत करने के साथ ही अगले महीने होने वाले कार्यक्रमों के लिए विधायकों की ड्यूटी लगाई। मुख्यमंत्री ने सरकार की उपलब्धियों को जनता तक पहुंचाने की बात कही। मीटिंग में प्रदेश के मौजूदा हालातों पर भी चर्चा की गई। विधायकों ने अपने इलाकों में विकास से जुड़े कुछ मुद्दे जहां मुख्यमंत्री के सामने रखे वहीं सीएम घोषणाओं पर तेजी से काम कराने का सुझाव रखा।

भाजपा में सब कुछ ठीक रहने का संदेश

मुख्यमंत्री ने पिछले दिनों चार मंत्रियों की गुपचुप मुलाकात और इससे फैली अटकलों के बीच मंत्रियों को डिनर दिया था। ये मुलाकात उस समय हुई थी जब भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय चंडीगढ़ में पार्टी पदाधिकारियों, मंत्रियों और विधायकों से बैठक करके गए थे। मंत्रियों ने किसी तरह की नाराजगी को खारिज करते हुए सब कुछ सामान्य बताया था। अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विधायकों के साथ लंच कर पार्टी में सब कुछ ठीकठाक रहने का संदेश देने की कोशिश की है।

सरसों की खरीद का मुद्दा छाया

भाजपा विधायक दल की बैठक में सरकार और संगठन पर चर्चा के साथ ही सरसों की खरीद का मुद्दा छाया रहा। मुख्यमंत्री ने विधायकों को भरोसा दिलाया कि जितना भी सरकार का कोटा है, उसके तहत सरसों की खरीदारी की जाएगी। सरसों खरीद मामले में एक दिन पहले ही भिवानी के भाजपा सांसद धर्मवीर ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मांग उठाई थी।

लिहाजा इस मीटिंग में दक्षिण और उत्तर हरियाणा के ज्यादातर विधायकों ने सरसों की खरीद का मामला उठाया। शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने कहा कि तीन घंटे चली विधायक दल की बैठक में सभी अहम मुद्दों व कार्यक्रमों को लेकर चर्चा की गई। मंथन, चिंतन के बाद भोजन के दौरान भी सबने अपनी-अपनी बात रखी।

You may also like

फिर चक्का जाम पर उतरे हरियाणा रोडवेज कर्मचारी, 16 से हड़ताल

किलोमीटर स्कीम के तहत परिवहन बेड़े में 720