सीएमएस की ‘शिक्षा पद्धति’ का प्रशिक्षण ले रहा थाईलैण्ड का 16 सदस्यीय शिक्षक दल

- in उत्तरप्रदेश, लखनऊ

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, कानपुर रोड कैम्पस में थाईलैण्ड के शिक्षकों का 16-सदस्यीय दल अपनी 10 दिवसीय शैक्षिक यात्रा के अन्तर्गत सी.एम.एस. की शिक्षा पद्धति का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा है। सी.एम.एस. में प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरान्त थाईलैण्ड के ये शिक्षक अपने विद्यालय में छात्रों को गुणवत्तापूर्ण एवं उद्देश्यपूर्ण शिक्षा प्रदान करने एवं छात्रों का सर्वांगीण विकास करने के तौर-तरीकों को अपनायेंगे, साथ ही सी.एम.एस. की शिक्षा पद्धति का विस्तार भी करेंगे। सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी हरि ओम शर्मा ने बताया कि थाईलैण्ड के एजम्प्शन समुतप्रकर्ण स्कूल को शिक्षक दल अपनी प्रधानाचार्या सुश्री सिरिया, एकेडमिक हेड सुश्री रून्ग्रेट एवं असिस्टेन्ट एकेडमिक हेड किट्टीफान के नेतृत्व में पधारा है तथापि शिक्षक दल में डनुफोन, फिरोम, नैरोन्ग्रिट, सुश्री पियारत, सुश्री विकांडा, सुश्री कुसुमावाडी, नथावत, सुश्री बेंजामार्ट, चारोमफोल, सुश्री चुलीपोर्न, सुश्री जुथमास, सुश्री ससिथोर्न एवं सुश्री रूंगनाफा शामिल हैं।

श्री शर्मा ने बताया कि थाईलैण्ड से पधारे शिक्षकों के प्रशिक्षण हेतु सी.एम.एस. में विभिन्न इन्टरएक्टिव सेशन आयोजित किये गये हैं जिनके द्वारा शिक्षण को अधिक प्रभावी और संवादात्मक बनाने के टीचिंग प्लान से अवगत कराया गया, साथ ही आडियो-विजुअल एड्स, व्हाइट बोर्ड एवं स्मार्ट क्लासेज जैसी आधुनिक शिक्षण पद्धतियों से अवगत कराया गया। थाईलैण्ड से पधारे इन शिक्षकों ने सी.एम.एस. की विभिन्न शैक्षिक गतिविधियों जैसे एस.यू.पी.डब्ल्यू., जे.वाई.ई.पी., आई.ए.वाई.पी., इको क्लब, सी.आई.एस.वी., माडल क्लास प्रजेन्टेशन, हाउस एक्टिविटीज आदि के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गांधी ने थाईलैण्ड के शिक्षकों को सी.एम.एस. की शिक्षा पद्धति में रुचि लेने एवं प्रशिक्षण के लिए सी.एम.एस. में पधारने हेतु धन्यवाद दिया। सी.एम.एस. कानपुर रोड कैम्पस की प्रधानाचार्या डा. विनीता कामरान ने कहा कि थाईलैण्ड की शिक्षकों की इस यात्रा से थाईलैण्ड के शिक्षक तो लाभान्वित हुए ही है अपितु सी.एम.एस. शिक्षकों को भी थाईलैंड में शिक्षा के क्षेत्र में किए जा रहे आधुनिक प्रयासों के बारे में पता चला। डा. कामरान ने कहा कि भारत-थाईलैण्ड के बीच एक बहुत ही सफल शैक्षिक आदान-प्रदान सम्पन्न हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

‘नमोस्तुते माँ गोमती’ के जयघोष से गूंजा मनकामेश्वर उपवन घाट

विश्वकल्याण कामना के साथ की गई आदि माँ