सिर्फ 45 मिनट में मिलेगी कोरोना की जांच रिपोर्ट, इस देश ने निकाला हल

दुनियाभर के लिए मौत का पर्याय बने कोरोना वायरस ने सभी को चिंता में डाल रखा है। लिहाजा तमाम देश इस समस्या का हल खोजने में जुटे हैं। वहीं यह वायरस दुनिया भर में अब तक करीब 13 हजार लोगों की जान भी ले चुका है, जिसमें से 6 भारतीय नागरिक शामिल है। वहीं कोरोना के संदिग्ध व्यक्ति की जांच रिपोर्ट में देरी होने से इस वायरस को फैलने में मदद मिलती है, लेकिन अब अमेरिका ने इस समसया का तोड़ निकाल लिया है।
दरअसल, अमेरिका के खाद्य और औषधि विभाग की ओर से महज 45 मिनट में कोरोना वायरस डायग्नोस्टिक परीक्षण की अनुमति दे दी गई है। ऐसे में सिर्फ 45 मिनअ में ही पुष्टी हो जाएगी कि संदिग्ध मरीज कोरोना से संक्रमित है या नहीं। बता दे कि फिलहाल इस बात का पता लगाने में काफी समय लगता है।
बता दे कि इ स तकनीक का विकास कैलिफोर्निया की आण्विक डायग्नोस्टिक्स कंपनी सेफेड ने किया है। कंपनी ने बताया कि इसके परीक्षण के लिए एफडीए ने शनिवार को मंजूरी दे दी थी। फिलहाल यह अस्पतालों और आपातकालीन सेवाओं में उपयोग किया जाएगा। कंपनी अगले सप्ताह इस तकनीक को दूसरे राज्यों में भी पहुंचाने की योजना पर काम कर रही है।
वहीं एफडीए ने भी बयान जारी कर इसे स्वाकृति देने की पुष्टी की है। कंपनी ने कहा कि हम 30 मार्च तक अपनी टेस्टिंग की उपलब्धता को लागू करना चाहते हैं। मौजूदा समय में सरकारी आदेश के तहत परीक्षण किया जाएगा और सैंपल कोएक केंद्रीकृत प्रयोगशाला में भेजा जाना सुनिश्चित किया गया ह। जहां से इसकी रिपोर्ट सार्वजनिक होगी।

Loading...
loading...
Loading...