#सावधान: नजर आ जाएं ये लक्षण तो बिल्कुल न करें  इग्नोर…

- in हेल्थ

अगर आपको नीचे बताए गए लक्षण नजर आ जाएं तो बिल्कुल भी इग्नोर न करें, वरना जिंदगी बर्बाद हो जाएगी, यकीं नहीं आता तो जानिए कैसे।#सावधान: नजर आ जाएं ये लक्षण तो बिल्कुल न करें  इग्नोर...

दरअसल, उम्र बढ़ने के साथ प्रोस्टेट कैंसर की आशंका बढ़ गई है। इस बीमारी के साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि इसके होने पर अधिकतर मरीज को दर्द नहीं होता। इस स्थिति में 45-50 साल की उम्र पर हर व्यक्ति को प्रोस्टेट कैंसर की एक बार जांच करानी चाहिए। लापरवाही बरतने पर खतरनाक साबित हो सकता है। ऐसी स्थिति में इलाज लंबा चलता है। खर्चे के साथ दूसरी दिक्कते बढ़ती हैं। जानलेवा भी हो सकता है। विशेषज्ञों ने दावा किया है कि यदि इसका जल्दी पता चल जाए तो इसे निश्चित रूप से ठीक किया जा सकता है।

क्या है प्रोस्टेट कैंसर
प्रोस्टेट एक ग्रंथि होती है। यह वो द्रव्य (फ्लूड) बनाती है, जिसमें शुक्राणु (स्पर्म) होते हैं। प्रोस्टेट मूत्राशय के नीचे स्थित होता है। जन्म के साथ ही यह ग्रंथि बनती है। प्रोस्टेट कैंसर वहीं होता है। उम्र के साथ इसका साइज और कैंसर की आशंका बढ़ती है। साइज तो सबका बढ़ेगा, लेकिन कैंसर सभी को होगा, ऐसा नहीं होता। पीजीआई की एक ओपीडी में 15 से 20 मरीज आते हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रोस्टेट कैंसर कितनी तेजी से बढ़ रहा है।

प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण
बार-बार पेशाब आना, विशेष तौर पर रात में। पेशाब रुक कर आना या इंफेक्शन होना। पेशाब करते वक्त दर्द व जलन होना। पेशाब या सीमन में खून आना। कूल्हे, जांघ की हड्डियां और पीठ में लगातार दर्द होना। सेक्स के दौरान खून आना।

ये होते हैं कारण
बढ़ती उम्र। विटामिंस की कमी। ज्यादा रेड मीट खाना। फैटी डाइट का खाना। मॉडर्न लाइफ स्टाइल। तय मानक से ज्यादा वजन। परिवार के किसी सदस्य को हुआ हो।

ऐसे पता कर सकते हैं
प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए प्रोस्टेट स्पेसिफिक एंटीजन (पीएसए) का टेस्ट होता है। यह शरीर का एक रसायन है। इसका लेवल बढ़ने पर प्रोस्टेट कैंसर की आशंका रहती है। इसके अलावा अल्ट्रासाउंड और रेक्टल परीक्षण के आधार पर भी इसकी जांच की जाती है। प्रोस्टेट की बायोप्सी से इसे कंफर्म किया जाता है। कभी-कभी बोन स्कैन और एमआरआई की भी जरूरत पड़ती है।

क्या है इलाज
यदि शुरुआत में ही इसका पता चल जाए तो इसका पूर्णतया इलाज संभव है। जब प्रोस्टेट अंदर ही रहता है तो रोबोटिक सर्जरी की मदद से इसे जड़ से निकाल दिया जाता है। इस प्रासेस को रेडिकल प्रोस्टेटिक्टॉमी कहते हैं। एंडोस्कोपी से इसका इलाज नहीं किया जाता। यदि प्रोस्टेट कैंसर फैल जाता है तो मरीज को हार्मोनल ट्रीटमेंट दिया जाता है। जब कैंसर ज्यादा फेल जाता है तो कीमोथैरेपी और सेकेंड हार्मोनल ट्रीटमेंट दिया जाता है। जब कैंसर बोन तक बढ़ जाता है तो फ्रैक्चर होने की आशंका बढ़ती है। बोन को मजबूत करने के लिए डाक्टर इंजेक्शन देते हैं।

ये तरीके अपनाएं, तो बच सकते हैं
खूब हरी सब्जियां खाएं। रोजाना फल भी खाएं। शरीर में विटामिन की कमी न होने दें। यदि पेशाब में कोई दिक्कत आ रही है तो यूरोलाजिस्ट को दिखाएं। परिवार के किसी सदस्य को हुआ हो तो 45 की उम्र के बाद जांच जरूर करवाएं। रेड मीट खाने से परहेज करें और वजन को काबू करें। कीटनाशक और केमिकल से दूर रहें।

उम्र बढ़ने से प्रोस्टेट कैंसर की आशंका बढ़ गई है। 45 से 50 की उम्र में हर व्यक्ति को एक बार प्रोस्टेट की जांच करवानी चाहिए। यदि जल्दी इसका पता चल जाए तो इसका आसानी से इलाज संभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

डेंगू से उबरने में यह सब्जी करती है रामबाण का काम

बदलते मौसम और पनपते मच्छरों की वजह से