सनसनीखेज खुलासा: मानव बम से कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर की हत्या की थी साजिश

बठिंडा। दिल्‍ली में 1984 के सिख विरोधी दंगे को लेकर निशाने पर रहे कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर के बारे में बड़ा खुलासा हुआ है। आंतकी संगठन बब्‍बर खालसा से जुड़ा अमरजीत सिंह नामक युवक मानव बम बनकर जगदीश टाइटलर की हत्‍या करना चाहता था। यह सनसनीखेज खुलासा उसने पुलिस पूछताछ में किया है।

बठिंडा। दिल्‍ली में 1984 के सिख विरोधी दंगे को लेकर निशाने पर रहे कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर के बारे में बड़ा खुलासा हुआ है। आंतकी संगठन बब्‍बर खालसा से जुड़ा अमरजीत सिंह नामक युवक मानव बम बनकर जगदीश टाइटलर की हत्‍या करना चाहता था। यह सनसनीखेज खुलासा उसने पुलिस पूछताछ में किया है।  अमरजीत को अदालत परिसर में 26 फरवरी को अवैध हथियार के साथ पकड़े गया था। इसके बाद से वह पुलिस रिमांड पर है। उसने पूछताछ में जो कुुछ खुलासा किया उससे पुलिसक‍र्मियों के भी होश उड़ गए। बब्बर खालसा से संबंध रखने वाले अमरजीत सिंह के इस खुलासे के बाद पुलिस अब यह जानने में जुटी है कि इस साजिश में और कौन लोग शामिल थे।  इंस्पेक्टर कुलदीप भुल्लर का कहना है कि फिलहाल आरोपित से और पूछताछ की जानी बाकी है। अभी तक की पूछताछ में उसने बताया कि उसके पास से पकड़ी गई पिस्तौल उसे गांव कोठागुरु के रहने वाले गैंगस्टर रणजोध सिंह ने मुहैया कराया थी। रणजोध की डेढ़ साल पहले राजस्थान में एक सड़क हादसे में मौत हो चुकी है। वह जेल में रहते हुए जोधा के संपर्क में आया था जिसके बाद दोनों अच्छे दोस्त बन गए। जेल से जमानत पर रिहा होने के बाद जोधा ने उसे पिस्तौल दिया था।  गौरतलब है कि 2014 में भी अमरजीत संदिग्ध आतंकी गतिविधियों के कारण पकड़ा गया थ। पुलिस के अनुसार, पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या के मुख्य आरोपी जगतार सिंह तारा के कहने पर वह बठिंडा के गुरु नानकपुरा में गैरकानूनी गतिविधियां चला रहे आंतकी रमनदीप सिंह उर्फ सन्नी को विदेश से पैसे मुहैया करवाता था। कोतवाली पुलिस ने 8 नवंबर 2014 में बब्बर खालसा इंटरनेशनल के आतंकी रमनदीप सिंह उर्फ सन्नी को बम बनाने की सामग्री और अवैध असलहा समेत गिरफ्तार किया था।  पुलिस के अनुसार, अमरजीत के विदेश में बैठे आतंकियों के साथ संबंध थे। इसी ने रमनदीप उर्फ सन्नी को विदेश से आर्थिक मदद दिला बैंकॉक जाने में मदद की थी। बैंकॉक जाकर सन्नी ने बम बनाने की ट्रेनिंग ली लेकिन जब वापस बठिंडा पहुंचा तो पकड़ा गया। सन्नी से पूछताछ में ही अमरजीत सिंह और आंतकी जगतार तारा का नाम सामने आया था।  एसपी (इन्वेस्टीगेशन) स्वर्ण सिंह खन्ना का कहना है कि अमरजीत सिंह से अभी तो पूछताछ शुरू हुई है। कई बिंदुओं पर पूछताछ होना बाकी है जिसके बाद और भी खुलासे होंगे। एसएसपी नवीन सिंगला का कहना है कि 2014 में जब वह पकड़ा गया था उस समय वह गर्मख्याली था। आतंकी गतिविधियों में उसकी संलिप्तता थी। जेल में बंदी के दौरान उसका माइंड वॉश किया गया था। अब फिर से पिस्तौल के साथ पकड़ा गया है तो उससे कड़ी पूछताछ करके उसकी भूमिका की जांच की जा रही है।अमरजीत को अदालत परिसर में 26 फरवरी को अवैध हथियार के साथ पकड़े गया था। इसके बाद से वह पुलिस रिमांड पर है। उसने पूछताछ में जो कुुछ खुलासा किया उससे पुलिसक‍र्मियों के भी होश उड़ गए। बब्बर खालसा से संबंध रखने वाले अमरजीत सिंह के इस खुलासे के बाद पुलिस अब यह जानने में जुटी है कि इस साजिश में और कौन लोग शामिल थे।

इंस्पेक्टर कुलदीप भुल्लर का कहना है कि फिलहाल आरोपित से और पूछताछ की जानी बाकी है। अभी तक की पूछताछ में उसने बताया कि उसके पास से पकड़ी गई पिस्तौल उसे गांव कोठागुरु के रहने वाले गैंगस्टर रणजोध सिंह ने मुहैया कराया थी। रणजोध की डेढ़ साल पहले राजस्थान में एक सड़क हादसे में मौत हो चुकी है। वह जेल में रहते हुए जोधा के संपर्क में आया था जिसके बाद दोनों अच्छे दोस्त बन गए। जेल से जमानत पर रिहा होने के बाद जोधा ने उसे पिस्तौल दिया था।

गौरतलब है कि 2014 में भी अमरजीत संदिग्ध आतंकी गतिविधियों के कारण पकड़ा गया थ। पुलिस के अनुसार, पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या के मुख्य आरोपी जगतार सिंह तारा के कहने पर वह बठिंडा के गुरु नानकपुरा में गैरकानूनी गतिविधियां चला रहे आंतकी रमनदीप सिंह उर्फ सन्नी को विदेश से पैसे मुहैया करवाता था। कोतवाली पुलिस ने 8 नवंबर 2014 में बब्बर खालसा इंटरनेशनल के आतंकी रमनदीप सिंह उर्फ सन्नी को बम बनाने की सामग्री और अवैध असलहा समेत गिरफ्तार किया था।

पुलिस के अनुसार, अमरजीत के विदेश में बैठे आतंकियों के साथ संबंध थे। इसी ने रमनदीप उर्फ सन्नी को विदेश से आर्थिक मदद दिला बैंकॉक जाने में मदद की थी। बैंकॉक जाकर सन्नी ने बम बनाने की ट्रेनिंग ली लेकिन जब वापस बठिंडा पहुंचा तो पकड़ा गया। सन्नी से पूछताछ में ही अमरजीत सिंह और आंतकी जगतार तारा का नाम सामने आया था।

एसपी (इन्वेस्टीगेशन) स्वर्ण सिंह खन्ना का कहना है कि अमरजीत सिंह से अभी तो पूछताछ शुरू हुई है। कई बिंदुओं पर पूछताछ होना बाकी है जिसके बाद और भी खुलासे होंगे। एसएसपी नवीन सिंगला का कहना है कि 2014 में जब वह पकड़ा गया था उस समय वह गर्मख्याली था। आतंकी गतिविधियों में उसकी संलिप्तता थी। जेल में बंदी के दौरान उसका माइंड वॉश किया गया था। अब फिर से पिस्तौल के साथ पकड़ा गया है तो उससे कड़ी पूछताछ करके उसकी भूमिका की जांच की जा रही है।

loading...

You may also like

योगी सरकार ने बनाये कुछ नये विभाग

लखनऊ। अपर मुख्य सचिव माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा