सऊदी में नवाज शरीफ और डोनाल्ड ट्रंप की हुई पहली मुलाकात

रियाद। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सऊदी अरब पहुंचे। जहां उनका जोरदार स्वागत हुआ। उन्होंने यहां के किंग सलमान से भेंट की। ट्रंप के साथ उनकी पत्नी भी मौजूद थीं। यहां पर ट्रंप और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पहली बार एक साथ नजर आए हैं। इस्लामिक देशों के विरोधी माने जाने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप पहली विदेश यात्रा के पहले पड़ाव पर पहुंचे हैं। उन्होंने सऊदी अरब में इस्लामिक समिट को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आतंकी ईश्वर को नहीं मानते वे तो मौत का पूजन करते हैं।

सऊदी में नवाज शरीफ और डोनाल्ड ट्रंप की हुई पहली मुलाकात

उन्होंने इस्लामिक राष्ट्रों से अपील की कि आतंकवाद को समाप्त करना चाहिए। उन्होंने अपील की कि किसी भी देश में आतंकियों को पनपने न दिया जाए। इस दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के विदेश मामले के सलाहकार सरताज अजीज भी शामिल थे। पाकिस्तान के समाचार चैनल जियो टीवी द्वारा दावा किया गया कि रविवार को प्रधानमंत्री नवाज शरीफ सऊदी अरब पहुंचे। यहां पर वे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मिले।

ये भी पढ़े: बड़ी ख़बर: महंगी पड़ी दुश्मनी, अमेरिका की आन, बान और शान की ड्रैगन ने तोड़ दीं टांगें…

हालांकि इस मामले में आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। नवाज शरीफ सऊदी अरब पहुंचे। इसके पहले पाकिस्तान के मीडिया ने कहा कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और डोनाल्ड ट्रंप के बीच विशेष भेंट होने की संभावना भी है। संभावना है कि अमेरिका पाकिस्तान से आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई की बात कह सकता है तो दूसरी ओर दोनों ही देशों के बीच भारत में प्रायोजित आतंकवाद को लेकर चर्चा की जा सकती है।

पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ सऊदी पहुंचे। सऊदी अरब के किंग सलमान बिन अब्दुल अजीज ने उनका स्वागत किया। पाकिस्तानी न्यूज चैनल ने बताया कि नवाज शरीफ के साथ विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज,वकील अकरम शेख,प्रतिनिधिमंडल,सरकारी अधिकारी और मीडिया कर्मी गए हैं। समिट में पाकिस्तानी पीएम ने ट्रंप की तारीफ में कसीदे पढ़े। उन्होंने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने की बात तो कही,लेकिन भारत में आतंकवाद के निर्यात पर चुप्पी साधे रखी।

You may also like

पाक ने की वर्ल्ड बैंक से शिकायत, कहा सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा भारत

पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र मिशन के एक बयान