वोडाफोन और आइडिया के इस प्लान से, उड़ी Jio और Airtel की नीद

भारतीय टेलिकॉम बाजार में रिलायंस जियो ने अपने फ्री प्लानस और सर्विसेस से लोगों के बीच के हलचल मचा रखी है. वही बिड़ला ग्रुप की कंपनी आईडिया सेल्युलर और वोडाफोन की इंडिया यूनिट का विलय  एयरटेल और रिलायंस जियो पर भारी पड़ सकता है.  इन दोनों कंपनी के आ जाने से रिलायंस जिओ का नंबर वन बन पाना काफी मुश्किल हो जाएगा, क्योंकि आईडिया और वोडाफोन के विलय के बाद बनने वाली कंपनी के पास 40 फीसदी मार्किट शेयर होगा. जो कि एयरटेल और रिलायंस जियो को मात दे सकता है. 

बहन ने कहा, छोड़ दो मुझे मैं प्रेग्नेंट हो जाऊंगी, भाई ने कहा- टेंशन मत लोबाथरूम में नहा रही लड़की का वीडियो बनाया, कहा-एक बार में क्या हो जाएगा

वर्तमान में भारती एयरटैल 21 पर्सैंट स्पैक्ट्रम के साथ पहले स्थान पर है. वही रिलायंस जियो 17 पर्सैंट शेयर के साथ दूसरे नंबर पर है. किन्तु आईडिया और वोडाफोन का विलय होने पर इस कंपनी के पास शेयर बढ़ जायेगे. क्रैडिट स्विस के मुताबिक विलय से बनने वाली कंपनी के पास 26 पर्सैंट स्पैक्ट्रम मार्कीट शेयर होगा.

आपको यह भी बता दें कि एयरटेल के पास अभी टेलिकॉम मार्किट का 32 फीसदी हिस्सा है. यह सब देखते हु्ए हो सकता है जियो अपनी फ्री सेवा की अवधी और बढ़ा दे. ऐसे में अगर जियो का फ्री ऑफर जारी रहता है, तो नई कंपनी की तुलना में एयरटेल को इससे काफी नुकसान होगा. देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी एयरटेल में 23 करोड़ ग्राहक जुड़े हुए हैं. रिलायंस जिओ के साथ 7.2 करोड़ ग्राहक जुड़ चुके हैं. ऐसे में अगर वोडाफोन और आइईडिया का विलय होता है, तो इनके पास 39 करोड़ ग्राहक होंगे, जो एयरटेल और रिलायंस जियो की तुलना में काफी ज्यादा हैं.

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button