विकास के नाम पर राजनीति, फिर भी नहीं खर्च कर पाए सांसद निधि

 
नितिन अवस्थी
लखनऊ। किसी भी लोकसभा क्षेत्र के विकास में सड़क, बिजली, पानी जनता की मूलभूत सुविधाओं में शामिल हैं। इन सुविधाओं को पूरा करने के लिए सांसद को हर वित्तीय वर्ष पांच करोड़ की निधि विकास कार्य हेतु दी जाती है। लेकिन विकास के नाम पर राजनीति करने वाले बीजेपी, कांग्रेस समेत तमाम दल के नेता ऐसे हैं जो अपनी सांसद निधि के जरिए विकास करने में कंजूस साबित हुए। बात चाहे सत्ता पक्ष के राजनाथ सिंह, मुरली मनोहर जोशी की हो या विपक्ष में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल और उनकी मां व यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी की। सभी संसद में भले ही मुखर हों, लेकिन अपने लोकसभा क्षेत्र में पांच साल के दौरान ये दिग्गज नेता सांसद विकास निधि के पैसे खर्च करने में भी काफी पीछे हैं।
राजनाथ सिंह
सांसद, लखनऊ
देश की हाई प्रोफाइल लोकसभा सीटों में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ सीट का नाम आता है। अटल बिहारी वाजपेयी की राजनीतिक कर्मभूमि पर 1991 से लगातार बीजेपी का कब्जा है। मौजूदा समय में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ से सासंद हैं। सांसद निधि से खर्च देखें तो राजनाथ सिंह ने अपने कार्यकाल में 25 करोड़ सांसद निधि में से 17.42 करोड़ रुपये विकास कार्यों पर खर्च किया है। इस तरह से वह करीब 70 फीसदी सांसद निधि खर्च कर सके हैं।
मुरली मनोहर जोशी
सांसद, कानपुर
उत्तर प्रदेश में गंगा के किनारे बसा औद्योगिक शहर कानपुर भी देश की हाई प्रोफाइल लोकसभा सीटों में से एक है। कानपुर संसदीय सीट के तहत पांच विधानसभा सीटें आती हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने अपने दिग्गज नेता मुरली मनोहर जोशी को मैदान में उतारा और जीत दर्ज की। बीजेपी के बुजुर्ग नेता मुरली मनोहर जोशी ने पांच साल में मिले 25 करोड़ सांसद निधि में से 23.85 करोड़ रुपये विकास कार्यों पर खर्च किया।
साक्षी महाराज
सांसद, उन्नाव
उन्नाव लोकसभा सीट उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और औद्योगिक नगरी कानपुर से सटी हुई है। 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी साक्षी महाराज को उतारकर यहां से कमल खिलाने में कामयाब रही थी। सांसद निधि खर्च करने के मामले में साक्षी महाराज का प्रदर्शन औसत से कम रहा है। साक्षी महाराज ने अपनी सांसद निधि कोटे के 25 करोड़ में से 11.31 करोड़ रुपये विकास कार्यों पर खर्च किया। इस तरह से वह करीब 45 फीसदी सांसद निधि खर्च कर सके हैं।
सोनिया गांधी
सांसद, रायबरेली
यूपी में कांग्रेस के गढ़ माने जाने वाली रायबरेली लोकसभा सीट से मौजूदा सांसद कांग्रेस की सोनिया गांधी हैं। साल 2004 से लगातार वह इस लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। पांच साल में 25 करोड़ रुपये सांसद निधि से सोनिया गांधी ने करीब 17.50 करोड़ रुपए विकास कार्यों में खर्च किए। हालांकि सोनिया के संसदीय क्षेत्र को अब तक मुंबई, कानपुर, लखनऊ, प्रतापगढ़ और बाराबंकी आदि जिलों के 10 संसद सदस्यों ने 61 करोड़ से अधिक की धनराशि अपनी निधि से दी है।
राहुल गांधी
सांसद, अमेठी
उत्तर प्रदेश की हाइ प्रोफाइल अमेठी लोकसभा सीट पर शुरू से कांग्रेस की बादशाहत रही है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार तीसरी बार यहां से सांसद बने हैं। साल 2004 से राहुल गांधी लगातार अमेठी सांसद चुने जा रहे हैं। वहीं अगर राहुल गांधी की सांसद निधि से खर्च की बात करें तो इस मामले में वह थोड़ कंजूस नजर आ रहे हैं। राहुल गांधी ने अपनी 25 करोड़ की सांसद निधि खर्च करने में कंजूसी दिखाई और 15.25 करोड़ मतलब लगभग 60.56 फीसदी राशि ही खर्च कर सके।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button