वाइट विडो की मौत के बाद अब इस ग्‍लैमर गर्ल को ISIS बनाना चाहता था नई आतंकी WHITE WIDOW

- in गजब

अमेरिकी हवाई हमले में पिछले साल जून में विश्‍व की मोस्ट वॉन्टेड फीमेल टेररिस्ट ‘वाइट विडो’ की मौत हो गई थी. हालांकि आतंकी संगठन ISIS ने नए वाइट विडो की तलाश कर ली थी. हालांकि आतंकी संगठन अपने मकसद में कामयाब हो पाता उससे पहले ही यह महिला ब्र‍िटेन में पकड़ी गई.

आतंकी संगठन ISIS ने ब्र‍िटेन की ग्‍लैमर मॉडल किंबर्ले माइनर्स को नई वाइट विडो बनाने के लिए जाल बिछाया था. हालांकि किंबर्ले माइनर्स पुलिस के हत्‍थे चढ़ गई और उसने कई चौंकाने वाले खुलासे किए है.

किंबर्ले माइनर्स को वाइट विडो बनाने की प्‍लानिंग के पीछे उसी आतंकी का हाथ था जिसने ब्र‍िटेन के सबसे युवा आतंकी सफा बाउलर को आतंकी बनने के लिए बहकाया था.

द सन की खबर के अनुसार किंबर्ले माइनर्स टॉपलेस मॉडल रह चुकी हैं. उसने पुलिस को बताया कि युवा आतंकी सफा बाउलर के फ‍ियांसे नावीद हुसैन ने उसका भी ब्रेनवॉश किया था. किंबर्ले माइनर्स ने खुलासा किया कि सीरिया के समर्थन में पोस्‍ट करने के बाद नावीद हुसैन ने उससे ऑनलाइन संपर्क साधा था.

फेसबुक और दूसरे सोशल साइट्स के जरिए नावीद उसे मुस्‍ल‍िमों पर हुई हिंसा से जुड़े फोटोज और वीडियो शेयर किया करता था. इस तरह उसे पश्‍च‍िमी देशों और खासकर अमेरिका के ख‍िलाफ भड़काया जाता था.

किंबर्ले माइनर्स ने खुलाया किया कि उसका और नावीद हुसैन का ऑनलाइन अफेयर शुरू हो चुका था और नावीद ने उसे सीरिया में लड़ाई में शामिल होने के लिए लगभग मना लिया था. नावीद उस समय किंबले के अलावा सफा बाउलर्स और 10 अन्‍य महिलाओं को आतंकी बनने के लिए उकसा रहा था.

नावीद हुसैन ने उससे नई वाइट व‍िडो बनने के लिए मना लिया था. आपको बता दें कि इससे पहले ब्र‍िटेन की शैली जोंस को वाइट विडी के नाम से जाना जाता था. कई जगह हिंसा मे शामिल इस महिला आतंकी की जून 2017 में अमेर‍िकी हमले में मौत हो गई थी.

नावीद हुसैन की बातों में आकर दौरान टॉपलेस मॉडल किंबर्ले माइनर्स ने बुर्का में अपनी इमेज सोशल साइट्स पर अपलोड की थी.

साथ ही एक फोटो में अपनी बिल्‍ली को आत्‍मघाती हमले वाला जैकेट पहने दिखाया था. हालांकि किंबर्ले माइनर्स वाइट व‍िडो बनने के लिए सीरिया जा पाती उससे पहले ही एंटी टेरर पुलिस ने उसके और नावीद के बीच की बातचीत इंटरसेप्‍ट कर ली. इसमें बम मेकिंग मैनुअल भी शामिल था.

किंबर्ले माइनर्स के अनुसार वह उन दिनों बेहद अकेला महसूस करती थी. उस दौरान उसका ब्रेकअप और मिसकैरेज हुआ था. ऐसे में उस दौरान सोशल साइट्स यूज करते हुए वह सीरिया में मौजूद लोगों के करीब आई. इसके साथ ही उसने वहां बम हमलों के वीडियोज शेयर करने शुरू कर दिए थे. इसी के बाद नावीद ने उससे दोस्‍ती की.

हालांकि 2015 तक पुलिस को इस बात की जानकारी हो गई थी. नावीद उसे रोजाना 100 से अध‍िक मैसेज शेयर किया करता था. हिरासत में लेने के बाद ब्र‍िटिश पुलिस ने उसे थेरेपी सेशन लेने की सलाह दी. हालांकि नावीद ने उससे फ‍िर संपर्क साधा और किंबर्ले माइनर्स ने सेशन लेना बंद कर दिया. इसी बीच नावीद ने प्‍लानिंग की थी कि किंबर्ले माइनर्स द्वारा तुर्की में छुट्टी मनाने जाने पर उसे सीरिया लाया जाएगा. हालांकि यह प्‍लानिंग सफल हो पाती उससे पहले ही एमआई5 ने उसे हिरासत में ले लिया था.

पुलिस ने हालांकि हिरासत में पूछताछ करने के बाद किंबर्ले माइनर्स को रिहा कर दिया. आपको बता दें कि नावीद हुसैन की भी अमेरिकी हमले में मौत हो चुकी है. ऐसे में नावीद से संपर्क टूटने की वजह से किंबर्ले माइनर्स नई वाइट वि‍डो बनने से बच गई. आपको बता दें कि आतंकवादी संगठन खूबसूरत महिलाओं को आतंकी बनाकर उन्‍हें वाइट व‍िडो का नाम देते हैं. ऐसे ही एक वाइट व‍िडो सोमालिया में आतंकवादी समूह अल शबाब से जुड़ी आतंकी सामंथा ल्‍यूथवेट पर 400 से अध‍िक लोगों को मौत के घाट उतारने का आरोप है. मीडियो रिपोर्टों के अनुसार वह सोमालिया और केन्या में आतंकवादी कार्रवाई, आत्मघाती हमले और कार बम विस्फोटों में भी शामिल रह चुकी है.

You may also like

लखनऊ की निशा ने जीता महिला 5000 मीटर दौड़ का स्वर्ण

52वीं यूपी स्टेट जूनियर ( अंडर-20 पुरूष व