जानिए क्या है लिंग के साइज के बारे मे महिलाओं की राय

- in 18+

ज्यादातर पुरुषों में अपने पेनिस साइज को लेकर हमेशा डर बना रहता है। भले ही वह बिस्तर पर बड़े ही शातिर खिलाड़ी हों, फिर भी यह डर उनके मन में कहीं-न-कहीं रहता ही है। तो क्या सही में साइज से सेक्स में फर्क पड़ता है? आम अवधारणा रही है कि जितना बड़ा पेनिस का साइज होगा, उतना बेहतर है। लेकिन क्या सही मायने में सेक्सुअल परफॉर्मेंस में साइज का कुछ लेना-देना है भी या यह सिर्फ एक मिथक है

लिंग के साइज के बारे मे महिलाओं की राय

ज्यादातर पुरुषों में अपने पेनिस साइज को लेकर हमेशा डर बना रहता है। भले ही वह बिस्तर पर बड़े ही शातिर खिलाड़ी हों, फिर भी यह डर उनके मन में कहीं-न-कहीं रहता ही है। तो क्या सही में साइज से सेक्स में फर्क पड़ता है? आम अवधारणा रही है कि जितना बड़ा पेनिस का साइज होगा, उतना बेहतर है। लेकिन क्या सही मायने में सेक्सुअल परफॉर्मेंस में साइज का कुछ लेना-देना है भी या यह सिर्फ एक मिथक है?

सेक्स के दौरान पेनिस का साइज ही एकमात्र इंडिकेटर नहीं होता है, जो यह तय करे कि आपने कैसा परफॉर्म किया है? किसी भी महिला की संतुष्टि के लिए सेक्स के दौरान अन्य बातें भी इम्पोर्टेंट होती हैं। हर महिला के लिए सेक्स के दौरान पेनिस का साइज अलग-अलग मायने रखता है। किसी के लिए लंबा पेनिस तकलीफदेह भी हो सकता है, तो किसी के लिए यह आनंद का विषय भी।

पुरुषों में अपने पेनिस साइज को लेकर कितनी चिंता होती है, इस बात का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि कोई भी महिला अपने पार्टनर के साइज को लेकर कभी उसके सामने जिक्र नहीं करती हैं। ना ही कभी यह कहती हैं कि उनकी इच्छा क्या है? इस संबंध में पुरुष अपने डॉक्टर की राय तक अनसुनी कर देते हैं।

वजाइना की औसत सेक्सुअल गहराई छह इंच होती है। इसमें जो सेंसेशन होता है, वह आगे के एक तिहाई हिस्से यानी दो इंच तक ही होता है। अंदर के दो-तिहाई हिस्से में कोई संवेदनशीलता नहीं होती। इस जानकारी से साफ है कि पुरुष को अगर अपनी पत्नी को कामोत्तेजित करना हो तो अपना ध्यान उस पार्ट पर केंद्रित करना चाहिए, जहां सेंसेशन ज्यादा होता है।

लीबिया मेजोरा (बाहरी भगोष्ठ) और योनि मार्ग के आगे का दो इंच भाग।

यह भी पढ़ें: शादी से पहले संबंध बना चुकीं लड़कियां अब इस तरह हो रहीं वर्जिन, जानकर हिल जाएगे आप

महिला के काम संतोष के लिए एक पुरुष के पेनिस की उत्तेजित अवस्था में लंबाई अगर दो इंच से ज्यादा है तो भी काफी है क्योंकि ज्यादातर महिलाएं संभोग के सुख में दिलचस्पी लेती हैं, न कि पेनिस की लंबाई में।

योनि मार्ग एक इलास्टिक ऑर्गन है। जब डॉक्टर उंगली की मदद से योनि की जांच करता है तो यह उतनी ही विस्तृत होती है और जब बच्चा होता है तो योनि उसके हिसाब से विस्तृत हो जाती है। मतलब यह कि पेनिस की चौड़ाई कम हो या ज्यादा, योनि में दोनों को समाने की क्षमता होती है।

You may also like

30 हज़ार से ज्यादा लोगो ने करवाई इस कंडोम की एडवांस बुकिंग, जानिए इसकी खासियत

आप भी सुनकर हैरान रह गए होंगे की