राजस्थान में कई स्थानों पर बारिश, जयपुर में धूल के गुबार से पटा आसमान फिर हुई बरसात

- in राजस्थान, राज्य
जयपुर। राजधानी जयपुर सहित राज्य के कई इलाकों मेंं बुधवार सुबह व दोपहर में बरसात हुई। बरसात से मौसम सुहावा हो गया तथा भीषण गर्मी से राहत मिली। पहले धूलभरी हवा चली तो बाद में शहर के कई हिस्सों में हुई बारिश से शहरवासियों को गर्मी से राहत मिली। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश के उत्तर पूर्वी हिस्सों में स्थानीय मौसम तंत्र ​सक्रिय है और अगले चौबीस घंटे में शहर में धूलभरी हवा चलने के साथ छितराई बारिश का दौर बने रहने की संभावना है। जानिए कहां कहां हुई बरसात ….
राजस्थान में कई स्थानों पर बारिश, जयपुर में धूल के गुबार से पटा आसमान फिर हुई बरसात
 
इसलिए हो रही है बारिश
– गुलाबीनगर में सुबह बारिश के बाद करीब दस किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चली हवा ने सुबह धूप की तपिश को बेअसर कर दिया। शहर के मालवीय नगर, मानसरोवर, झेरवाड़ा व वैशाली नगर में तेज बरसात हुई जिससे कई इलाकों में पानी भर गया।

ये भी पढ़े: काम्प्लैक्स के बेसमेंट में घुसा पैंथर, लाेगों ने ऐसे किया बंद

– वाटिका, शिवदासपुरा समेत टोंक रोड के कुछ हिस्सों में भी बारिश हुई। बीती रात जयपुर के न्यूनतम तापमान में करीब डेढ़ डिग्री बढ़ोतरी हुई और रात में पारा 25 डिग्री सेल्सियस रहा वहीं बुधवार सुबह दस किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से चली हवा के कारण दिन का तापमान 31 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ।

– स्थानीय मौसम केंद्र के पूर्वानुमान के अनुसार शहर में बुधवार को स्थानीय तंत्र सक्रिय होने पर बादलों की आवाजाही बनी हुई है। देर शाम तक शहर में धूलभरी हवाएं चलने व हल्की बौछारें गिरने की संभावना है।
कई हिस्सों में छितराई बारिश का दौर रहा
– बीते चौबीस घंटे में अजमेर,भीलवाड़ा, नागौर, राजसमंद, सवाई माधोपुर, चित्तौडगढ के कई हिस्सों में छितराई बारिश का दौर रहा। बारिश से रात के तापमान में गिरावट दर्ज हुई।
 
– मौसम विभाग के अनुसार मोरा तूफान का असर राजस्थान पर भी देखा जा रहा है जिसके चलते प्रदेश के कई हिस्सों में अगले एक दो दिन अंधड़ व बारिश का दौर बने रहने की उम्मीद है।
– उल्लेखनीय है कि मोरा तूफान बंगाल की खाड़ी से होकर बिहार की ओर रुख कर चुका है। पूर्वोत्तर राज्यों में सक्रिय दक्षिण पश्चिमी मानसून के साथ प्रदेश में चल रही पुरवाई के कारण अगले एक दो दिन बादलों की आवाजाही बने रहने पर गर्मी के तेवर भी आंशिक रूप से कम रहने की उम्मीद है।

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के