रत्नों का गलत कॉम्बिनेशन बिगाड़ सकता है आपके काम, सोच-समझकर पहनें

- in धर्म

ग्रहाें के अशुभ असर को खत्म करने के लिए रत्न पहने जाते हैं, लेकिन कुछ लोग गलती से 2 शत्रु ग्रहाें के रत्न एकसाथ पहन लेते हैं। जिनके कारण ग्रहों अशुभ असर और बढ़ जाता है। रत्नों के बुरे असर से बनते काम बिगड़ने लग जाते हैं। स्वभाव और व्यवहार में बदलाव होने लगता है। वहीं गलत फैसले होने लगते हैं। जिससे धन हानि और परेशानियां बढ़ जाती हैं। जिस तरह गलत दवाई लेने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है उसी तरह गलत रत्न का भी साइड इफेक्ट होता है। इसलिए रत्नों के मामले में सावधानी रखना बहुत जरूरी है।रत्नों का गलत कॉम्बिनेशन बिगाड़ सकता है आपके काम, सोच-समझकर पहनें

पढ़ें कौन से रत्न एकसाथ नहीं पहन सकते –

– माणिक्य सूर्य का रत्न है। ये सीधे हाथ की अनामिका यानी रिंग फिंगर में पहना जाता है। इस रत्न के साथ हीरा, नीलम, गोमेद और लहसुनिया नहीं पहनना चाहिए। वरना जाॅब और बिजनेस में परेशानियां बढ़ जाती हैं। अधिकारियों से सहयोग नहीं मिलता। सरकारी जुर्माना भरना पड़ता है। बड़े लोगों से संबंध बिगड़ जाते हैं।

– मोती चंद्रमा का रत्न है। कई लोग इसे ये सोचकर पहनते हैं कि गुस्सा नहीं आएगा, लेकिन ऐसा नहीं है इसके साथ हीरा, पन्ना, नीलम, गोमेद या लहसुनिया पहन लेने से नींद की कमी, मन का उचटना, कामकाज में मन नहीं लगना और तनाव या डिप्रेशन जैसी समस्या होने लगती है।

– मूंगा मंगल का रत्न है। इसके साथ पन्ना, हीरा, गोमेद, नीलम और लहसुनिया नहीं पहनना चाहिए। ऐसा करने से गुस्सा बढ़ता है। विवाद, चोट और दुर्घटनाएं भी हो सकती हैं। कर्जा बढ़ जाता है। प्रॉपर्टी संबंधी विवाद और नुकसान होता है। वहीं ब्लड प्रेशर भी कम-ज्यादा होने लगता है।

– बुध का रत्न पन्ना है। इसके साथ गुरु, मंगल और चंद्रमा के रत्न पहनने से बचना चाहिए। पुखराज, मूंगा और मोती इसके साथ पहन लेने से धन हानि हो सकती है। लेन-देन और निवेश में गलत फैसले होने लगते हैं। गलत बात बोलने से काम भी बिगड़ने लगते हैं।

– पुखराज बृहस्पति का रत्न है। इसके साथ हीरा, पन्ना, नीलम और गोमेद नहीं पहनना चाहिए। पुखराज के साथ इनमें से कोई रत्न पहनने से गैस संबंधी समस्या होने लगती है। जॉब और बिजनेस के जरूरी काम बिगड़ने लगते हैं। गलत कामों मे मन भटकने लगता है। भगवान और धर्म में आस्था कम होने लगती है।

– हीरा शुक्र का ग्रह है। हीरे के साथ सूर्य, चंद्र, मंगल और गुरु के रत्न पहनने से बचना चाहिए। हीरे के साथ माणिक्य, मोती, मूंगा और पुखराज पहनने से फालतू खर्चा बढ़ जाता है। पैसों का नुकसान होने लगता है। सेविंग खत्म होने लगती है। अपोजिट जेंडर वाले लोगों से धोखा मिलने लगता है। इसके अलावा कमर के नीचले हिस्सों में कोई रोग होने की भी संभावना बढ़ जाती है।

– शनि के रत्न यानी नीलम के साथ माणिक्य, मूंगा, मोती और पुखराज नहीं पहनना चाहिए। ऐसा करने पर बुरा असर आपकी सेहत पर पड़ेगा। आपका अालस्य बढ़ेगा, चोट लग सकती है और दुर्घटना के भी योग बनेंगे। इसके अलावा झुठे आरोप लग सकते हैं और कोर्ट-कचहरी कामों में उलझ सकते हैं।

– गोमेद राहु का रत्न है। इसके साथ माणिक्य, मूंगा, मोती और पुखराज नहीं पहनना चाहिए। इनमे से कोई भी रत्न गोमेद के साथ पहनेंगे तो कन्फ्यूजन बढ़ेगा। अनजाना डर परेशान करेगा। रत्नों के साइड इफेक्ट के कारण कमजोर व्यक्तियों पर तो बुरी ताकतें भी हावी हो जाती हैं। पागलपन और डिप्रेशन जैसी मानसिक बीमारियां भी इसके कारण हो सकती है।

– केतु के रत्न लहसुनिया के साथ माणिक्य, मूंगा, पुखराज और मोती नहीं पहनना चाहिए। इन रत्नों को लहसुनिया के साथ पहनेंगे तो काम बिगड़ने लगेंगे। चिड़चिड़ापन रहेगा। सुस्सी बढ़ेगी। कोई काम करने का मन नहीं होगा। किए गए कामों का या मेहनत का फायदा भी नहीं मिलेगा। सामान्य फैसले लेने में भी घबराहट होगी। बात-बात में शंका होने लगेगी। पैरों में चोट या कोई बिमारी हो सकती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मात्र 11 दिनों में कुबेर देव के ये चमत्कारी मंत्र आपको बना देगे धनवान

वर्तमान समय की बात करें तो हर एक