योग के दौरान जरूरी नहीं ऊॅं का उच्चारण

m-venkaiah-naidu_573d596b3d239एजेंसी/ नई दिल्ली : एक ओर जहां केंद्र सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योग के दौरान ऊॅं का उच्चारण करने की बात कही गई है वहीं केंद्रीय शहरी विकास मंत्री एम वैंकेया नायडू ने कहा कि 21 जून का अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योग सत्रों के तहत ऊॅं का उच्चारण करने की बाध्यता नहीं है। यह आवश्यक नहीं है। यह केवल स्वैछिक है। इस मामले में केंद्रीय मंत्री नायडू द्वारा कहा गया है कि योग को विवादास्पद न बनाया जाए। ओम का उच्चारण करना आवश्यक नहीं है।

योग तो प्राचीन भारतीय कला है। यह शरीर और मस्तिष्क दोनों को ही लाभान्वित करती है। दरअसल एम. वैंकेया नायडू ने उस विवाद के बाद जवाब दिया है जिसमें यह बात सामने आ रही थी कि योग के दौरान ऊॅं शब्द का उच्चारण करना जरूरी है। इस पर कुछ मुस्लिम धर्मावलंबियों के स्थानीय धर्मगुरूओं ने आपत्ती ली थी।

उनका कहना था कि आम के लिए किसी भी तरह के उच्चारण को बाध्य नहीं किया जा सकता है। आयुष मंत्रालय क संयुक्त सचिव अनिल कुमार द्वारा कहा गया है कि योग सत्र से पूर्व ऊॅं शब्द का उच्चारण करना आवश्यक नहीं है। लोग अपनी इच्छा के अनुसार ऊॅं शब्द का उच्चारण कर सकते हैं।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button