अभी अभी: ये क्या किया स्वामी ने खुद ही काट लिया अपना प्राइवेट पार्ट, कहा अब किसी काम का नही क्योंकि…

- in Mainslide, राष्ट्रीय

इस स्वामी ने जो किया वो सभी आश्चर्य में डाल दिया. हाल ही यह माना जा रहा था कि स्वामी पर कई अश्लील काम करने के भी आरोप हैं. वे जहां भी जाते महिलाओं के साथ रस रिला करने लगते..इसी दौरान इस महिला ने शिकायत भी दर्ज करवाई हैं..इस स्वामी ने जो किया वो सभी आश्चर्य में डाल दिया. हाल ही यह माना जा रहा था कि स्वामी पर कई अश्लील काम करने के भी आरोप हैं. वे जहां भी

लेकिन अब स्वामी ने खुद ही अपने प्राइवेट पार्ट को काट लिया और उनका मानना हैं कि अब ये पार्ट मेरे किसी काम का नही..स्वामी का यह भी मनना हैं कि जब कुछ करना ही नहीं हैं कुछ मिलता ही नहीं तो इस अंग को रख कर क्या फ़ायदा…

और तो और उन्होंने अपने शरीर से इस चीज को हमेशा के लिए अलग कर दिए..धारधार हथियार से इसने इस पार्ट को ही काट डाला..

केरल में एक 23 वर्षीय लॉ छात्रा द्वारा स्वामी का प्राइवेट पार्ट काटे जाने का मामला सामने आया है. लड़की ने स्वामी पर आरोप लगाया कि वह उसके साथ पिछले 8 साल से रेप कर रहा था. अब इस केस में एक नई बात सामने आई है. आरोपी स्वामी ने दावा किया कि लड़की ने नहीं बल्कि खुद उसने अपना प्राइवेट पार्ट काटा है क्योंकि वह उसके काम का नहीं था.

ये भी पढ़े: आज पीएम मोदी के गुजरात दौरे से पहले, विरोध में हार्दिक पटेल ने कर डाला अपना ये हाल

पीलिस को दिए अपने बयान में आरोपी स्वामी गणेशानंद उर्फ हरि स्वामी (54) ने दावा किया कि उसने अपनी मर्जी से अपना प्राइवेट पार्ट काटा है, क्योंकि शरीर का वह अंग उसके लिए ‘गैर जरुरी’ था. पुलिस ने आरोपी स्वामी के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 और पॉक्सो एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया है.
गौरतलब है कि केरल के कोल्लम स्थित पदमा छत्तामबी स्वामी आश्रम का रहने वाला स्वामी गणेशानंद पीड़िता के पिता के इलाज के बहाने उनके घर आया करता था. पीड़िता का आरोप है कि 16 साल की उम्र से स्वामी उसका रेप कर रहा है. वह पिछले 8 साल से इस दंश को झेल रही थी. बीती रात एक बार फिर स्वामी ने उसके साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की.पीड़िता ने फौरन धारदार हथियार से स्वामी का प्राइवेट पार्ट काट डाला. पीड़िता ने खुद पुलिस को फोन कर इसकी सूचना दी. आरोपी स्वामी का इलाज जारी है. पुलिस का कहना है कि पीड़िता की मां छात्रा के साथ हुई घटना के बारे में जानती थी लेकिन फिर भी उन्होंने पुलिश में शिकायत दर्ज नहीं कराई. मां को भी हिरासत में लिया गया है.

केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने छात्रा की बहादुरी की तारीफ की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि छात्रा एक बहादुर लड़की है. छात्रा ने अपने दोषी को जो सजा दी वह बहुत ही सही है. वहीं केरल महिला आयोग की सदस्य प्रमीला देवी ने कहा कि हमें छात्रा पर गर्व है. छात्रा ने साबित कर दिया कि धर्म की आड़ में कोई भी व्यक्ति किसी महिला के साथ ऐसा कृत्य नहीं कर सकता है.

You may also like

#बड़ी खुशखबरी: भारत सरकार की इस नई योजना से जुड़ कर हर महीने कमाए 90 हजार रु

आज से देश भर में आयुष्मान भारत योजना