गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव में सपा-बसपा गठबंधन को मायावती ने दिखाई हरी झंडी

यूपी में होने वाले गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन को मायावती की हरी झंडी मिल गई है.

गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव में सपा-बसपा गठबंधन को मायावती ने दिखाई हरी झंडीसपा उम्मीदवारों का समर्थन करेगी बसपा

इलाहाबाद के बसपा कोऑर्डिनेटर अशोक कुमार गौतम ने रविवार को मीटिंग के बाद सपा प्रत्याशी नागेंद्र सिंह पटेल को समर्थन देने की घोषणा कर दी. उन्होंने कहा कि बीजेपी को हराने के लिए जीत रहे प्रत्याशी को बसपा का समर्थन रहेगा, इसी के तहत पार्टी इलाहाबाद में सपा प्रत्याशी नागेंद्र सिंह पटेल का समर्थन करेगी.

बसपा की जोनल स्तर की बैठक में बीएसपी के गोरखपुर जोन के प्रभारी घनश्याम चंद्र खरवार, सपा के उदय वीर सिंह और निषाद पार्टी के अध्यक्ष डॉ. संजय निषाद शामिल हुए. बैठक के बाद नेताओं ने गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में सपा प्रत्याशी को समर्थन की घोषणा की. इस चुनाव में बसपा ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारा है.

मायावती नहीं करेेंगी गठबंधन का ऐलान

सूत्रों के मुताबिक बसपा सुप्रीमो ने डिस्ट्रिक्ट कोआर्डिनेटरों को इस बारे में बता दिया है. हालांकि इस संबंध में मायावती कोई घोषणा नहीं करेंगी, बल्कि बीएसपी डिस्ट्रिक्ट कोआर्डिनेटर के नेता इसका ऐलान करेंगे.

इससे पहले गोरखपुर से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार प्रवीण निषाद ने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सहित अन्य विपक्षी पार्टियों के समर्थन का दावा किया. बसपा के समर्थन की खबरों के बीच सपा नेता सुनील सिंह यादव ने कहा, ‘मैं इतना जानता हूं कि बसपा उपचुनाव नहीं लड़ेगी. दोनों जगहों पर जहां उपचुनाव होने वाले हैं, समाजवादी पार्टी बीजेपी को कड़ी टक्कर देने वाली है.’

11 को वोटिंग और 14 मार्च को आएंगे नतीजे
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के त्यागपत्र के बाद खाली हुई गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर 11 मार्च को मतदान किया जाएगा और 14 मार्च मतगणना कर नतीजे घोषित किए जाएंगे. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने इन दोनों सीटों पर जीत हासिल की थी. गोरखपुर से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तो फूलपुर से केशव प्रसाद मौर्या लोकसभा के लिए चुने गए थे.

बीजेपी से केएस पटेल तो सपा से नागेंद्र पटेल मैदान में

बीजेपी ने जातीय समीकरण को ध्यान में रखते हुए फूलपुर लोकसभा सीट के लिए कौशलेंद्र पटेल को अपना उम्मीदवार बनाया है. तो वहीं सपा ने भी पटेल समुदाय के ही नागेंद्र पटेल पर दांव लगाया है. जबकि कांग्रेस ने ब्राह्मण समाज से आने वाले मनीष मिश्रा को मैदान में उतारा है.

बाहुबली और सपा के पूर्व सांसद अतीक अहमद ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर मंगलवार को फूलपुर लोकसभा सीट पर जोरदार दमखम के साथ नामांकन दाखिल किया है. बता दें कि अतीक अहमद फूलपुर लोकसभा सीट से सांसद रह चुके हैं. सपा की कमान अखिलेश यादव के हाथ में आने के बाद से वो पार्टी से साइड लाइन कर दिए गए हैं.

You may also like

‘नमोस्तुते माँ गोमती’ के जयघोष से गूंजा मनकामेश्वर उपवन घाट

विश्वकल्याण कामना के साथ की गई आदि माँ